पाकिस्तान : नवाज की सियासत पर आजीवन ब्रेक

0
144

इस्लामाबाद : अपने ऐतिहासिक फैसले में पडोसी देश के लिए नजीर पेश करते हुए पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के सियासी जीवन का खात्मा कर दिया है। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि शरीफ सार्वजनिक पद के लिए योग्य नहीं हैं। बता दें कि पाकिस्तान के संविधान की धारा 62 (1) (F) के तहत अगर किसी शख्स को कोर्ट अयोग्य करार देता है, तो वह हमेशा के लिए सियासत से दूर रहेगा। 67 वर्षीय नवाज शरीफ को अघोषित आय के स्त्रोत को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल जुलाई में पद पर रहने से अयोग्य करार दिया था। लेकिन, नवाज शरीफ ने सत्ताधारी पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एन) को अपने नियंत्रण में रखा हुआ था।

भ्रष्टाचार में आकंठ डूबे नवाज

पिछले साल पनामा पेपर्स केस मामले में नवाज़ शरीफ का नाम सामने आने के बाद पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें अयोग्य ठहरा दिया था। अब अदालत ने नवाज़ शरीफ को आजीवन अयोग्य करार दिया है। कोर्ट के इस फैसले के बाद शरीफ पर कभी चुनाव नहीं लड़ पाएंगे और न ही कोई सार्वजनिक पद पर नियुक्त हो पाएंगे। नवाज़ शरीफ को काला धन जमा करने के आरोप में दोषी ठहराया गया था। पनामा पेपर्स में नाम आने के बाद उन्हें पीएम पद से इस्तीफा देना पड़ा था। मामले में सुनवाई करते हुए अदालत ने पहले कहा था कि नवाज़ से उनकी संपत्ति और आय के स्रोतों के बारे में सवाल किए गए थे, जिसका उन्होंने कोई सीधा जवाब नहीं दिया था।

बेइमान व्यक्ति को देश पर शासन करने की अनुमति नहीं

अदालत का कहना था कि देश के संविधान के अनुसार किसी बेईमान व्यक्ति को देश पर शासन करने की अनुमति नहीं दी जा सकती। इसी साल फरवरी में पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि संविधान के अनुच्छेद 62 और 63 के तहत अयोग्य ठहराया गया कोई भी व्यक्ति राजनीतिक पार्टी का मुखिया नहीं रह सकता। जिसके बाद नवाज शरीफ पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के अध्यक्ष भी नहीं रह पाए थे। ‘डॉन न्यूज’ के मुताबिक, 5 जजों की बेंच ने सर्वसम्मित से यह आदेश दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here