अब बिना क्रेडिट हिस्ट्री वाले ग्राहकों को भी किफायती दरों पर मिल सकेगा लोन, जानियें कैसे?

0
125

नई दिल्ली: अब लोन लेना और भी आसान हो जाएगा. क्रेडिट ब्यूरो क्रिफ हाईमार्क और क्रेडिट विद्या के बीच साझेदारी हुई है। इस साझेदारी का मकसद, ऐसे ग्राहकों को आसानी से लोन देना है जिनकी कोई क्रेडिट हिस्ट्री नहीं है। क्रेडिट विद्या एक डेटा एनालिटिक्स कंपनी है।

क्रिफ हाइ मार्क और क्रेडिट विद्या के बीच हुई इस साझेदारी के तहत, अगर किसी ग्राहक ने पहले कोई क्रेडिट

कार्ड या लोन लिया है तो उसकी वैल्यू ऐडेड रिपोर्ट देखी जाएगी। क्रेडिट विद्या के सीईओ और सह-संस्थापक अभिषेक अग्रवाल ने कहा, ‘ग्राहकों के पिछले डेटा के अलावा, हमें डिजिटल फुटप्रिंट्स के जरिए अतिरिक्त डेटा निकालते हैं। और इसके बाद हम इन दोनों डेटा को देखते हैं लेंडर को रिपोर्ट सौंप देते हैं जो यह फैसला करते हैं कि ग्राहकों को लोन दिया जाए या नहीं।’ इसका मकसद यह है कि अगर कोई बड़ा बैंक या एनबीएफसी पहली बार लोन लेने वाले व्यक्ति को लोन दे सकते हैं तो उन्हें किफायती दरों पर लोन मिल सके।

बाजार के जानकारों के मुताबिक, माइक्रो-फाइनैंस के क्षेत्र में क्रिफ हाईमार्क की मजबूत पकड़ है। इस क्षेत्र में क्रेडिट हिस्ट्री को अपर्याप्त माना जाता है। क्रिफ हाईमार्क की एमडी और सीईओ कल्पना पांडेय ने कहा, ‘जहां क्रेडिट हिस्ट्री होती है, हम उसे व्यापक रूप से देने जा रहे हैं। साथ ही क्रेडिटविद्या के साथ हम दूसरे डेटा पर काम करेंगे ताकि लोन देने वाली कंपनी ग्राहक के बारे में पूरी जानकारी हासिल कर सके।’

क्रिफ हाईमार्क के पास अभी करीब 1.6 अरब रिकॉर्ड हैं और यह देश में हर सेगमेंट के ग्राहकों को कवर करती है। इसका डेटाबेस और एनालिटिक्स भारत में बनाया गया है। क्रेडिटविद्या का अनुमान है कि पहली बार लोने लेने वाले ग्राहकों वाले सेगमेंट की बात करें तो इनकी संख्या करीब 35 करोड़ है।