गुजरात में उत्तर भारतीयों पर हो रहे हमले को लेकर नीतीश ने की रुपाणी से बात, अब तक 42 मामले दर्ज 350 की गिरफ्तारी

0
54

अहमदाबाद : नाबालिग के दुष्कर्म के बाद गुजरात में उत्तर भारतीय पर हो रहे हमलों का मामला गर्माता जा रहा है। राज्य के कई इलाकों में उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगों पर हमले हो रहे हैं। उसके बाद से भयभीत होकर अन्य राज्यों के सैकड़ों लोग गुजरात से पलायन कर गए। इसके बाद नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री विजय रुपाणी से बात की है वहीं गुजरात के गृहमंत्री का भी बयान आया है।

‘मामले को लेकर सरकार गंभीर’

गुजरात के गृहमंत्री प्रदीप जडेजा ने कहा कि पिछले 4-5 दिनों में उत्तर भारतीय लोगों पर हमले हुए हैं। मामले को लेकर सरकार गंभीर है और हमने इस मामले में कार्रवाई की है। घटना को लेकर जो लोग गिरफ्तार किए गए हैं उनकी जांच की जा रही है।

वहीं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि मैंने गुजरात के मुख्यमंत्री से बात की है और उनके संपर्क में हूं। वो मामले पर नजर बनाए हुए हैं। जो लोग अपराधी हैं उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।

उद्योगपतियों ने जताई चिंता

इसे लेकर जहां राज्य के उद्योगपतियों ने चिंता जताई है वहीं कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने धमकी भरा बयान दिया है। जानकारी के अनुसार उद्योगपतियों ने मुख्यमंत्री रुपाणी को चिट्ठी लिखकर चिंता जताई है कि अगर इस तरह के पलायन से उद्योगों पर इसका विपरित असर होने लगा है।

निरुपम ने दिया धमकीभरा बयान

वहीं कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने धमकी भरे अंदाज में दिए एक बयान में कहा है कि पीएम मोदी के गृह राज्य में अगर यूपी-बिहार के लोगों को मार-मारकर भगाया जाएगा तो एक दिन पीएम को भी वाराणसी जाना है, यह याद रखना। वाराणसी के लोगों ने उन्हें गले लगाया और पीएम बनाया था।

Related image

ठाकोर ने कहा बदनाम करने की साजिश

वहीं मामले में कांग्रेस नेता अल्पेश ठाकोर ने कहा है कि सरकार ठाकोर सेना को बदनाम कर रही है।

सोशल मीडिया पर दी जा रही है धमकी

सोशल मीडिया पर भी खुले तौर पर उत्तर भारतीयों को गुजरात छोड़ने की धमकी दी जा रही है. उत्तर प्रदेश के जौनपुर के रहने वाले गंगाराम बताते हैं कि, “मैं अहमदाबाद में काम कर रहा हूं. रात को करीब 25 से 30 बाइक सवार लोग आए और मुझे पीटा, गालियां दी. वो नारे लगा रहे थे कि यूपी वालों को मार डालो. मैंने किसी तरह एक दुकान में छिपकर जान बचाई.”

पुलिस ने बनाया एक्शन प्लान

दूसरी तरफ घटनाओं से निपटने के लिए पुलिस ने एक्शन प्लान बनाया है। बता दें कि गुजरात के मुख्य सचिव डॉ. जे एन सिंह और राज्य के पुलिस महानिदेशक दोनों बिहार से हैं। इसके अलावा गृह मंत्रालय के अतिरिक्त मुख्य सचिव आनंद मोहन तिवारी भदोही यूपी से हैं इसीलिए दुष्कर्म की घटना के बाद अन्य प्रांत के लोगों पर हमला होते ही सरकार व प्रशासन हरकत में आ गया। पुलिस गश्त बढ़ाने के साथ एसआरपी तैनात की गई तथा राज्यभर में डेढ़ सौ से अधिक को गिरफ्तार कर हिंसक घटनाओं पर तुरंत काबू पाया गया।

Image result

एसआरपी की 17 कंपनियां तैनात

राज्य के पुलिस महानिदेशक शिवानंद झा ने कहा कि हिंसक घटनाओं से निपटने के लिए पुलिस ने एक्शन प्लान बनाया है। एसआरपी की 17 कंपनियां संवेदनशील क्षेत्रों में तैनात की गई है। उनका दावा है कि अफवाह फैलाने वालों की पहचान कर ली गई है। गुजरात में बीते एक सप्ताह से अन्य प्रांत के लोगों पर हमले हो रहे हैं।

ठाकोर सेना के लोग बना रहे है निशाना

ठाकोर सेना नामक सामाजिक संगठन के कार्यकर्ता साबरकांठा, मेहसाणा, गांधीनगर, अहमदाबाद सहित कई इलाकों में बसे उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगों को निशाना बना रहे हैं। औद्योगिक इकाइयों व फैक्टरियों में काम कर रहे श्रमिकों के साथ भी ठाकोर सेना ने मारपीट की है। इसके बाद से गुजरात के कई शहरों से अन्य राज्यों के लोग पलायन करने लगे हैं। अब तक सैकड़ों परिवार गुजरात छोड़कर जा चुके हैं।

42 मामले दर्ज कर 350 आरोपी गिरफ्तार

शिवानंद झा ने बताया कि पुलिस ने अब तक 42 मामले दर्ज कर 350 आरोपितों को पकड़ा है। सोशल मीडिया पर अफवाह फैलानेवालों की पहचान कर ली गई है। राज्य की शांति व्यवस्था बिगाड़ने वालों पर निगरानी की जा रही है। अफवाह फैलाने के दो मामले दर्ज किए हैं। उधर ठाकोर सेना के प्रमुख अल्पेश ठाकोर ने कहा कि सरकार व पुलिस ठाकोर सेना को बदनाम कर रही है। वह ठाकोर सेना को तोड़ना चाहती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here