आर्टिकल 370 पर बोले मणिशंकर अय्यर, जम्मू-कश्मीर को फिलिस्तीन बना दिया

0
102

जम्मू-कश्मीर को लेकर सरकार के फैसले पर कांग्रेस के नेताओं की ओर से विवादित बयान देने का सिलसिला जारी है। दिग्विजय सिंह और पी चिदंबरम के बाद अब इस विवाद में बड़बोले मणिशंकर अय्यर भी कूद पड़े हैं। इन विवादास्पद टिप्पणियों की वजह से सियासी बवाल मच गया है और बीजेपी को कांग्रेस को घेरने का मौका मिल गया है।

जम्मू-कश्मीर को फिलिस्तीन बना दिया : मणिशंकर

अपने विवादित बयानों से पहले भी कई बार कांग्रेस को परेशानी में डाल चुके पूर्व केंद्रीय मंत्री मणिशंकर अय्यर ने इसबार सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह पर हमला बोला है। मणिशंकर अय्यर ने कहा कि “नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने हमारी उत्तरी सीमा को फिलिस्तीन बना दिया है।” उन्होंने लिखा है कि इसके लिए ‘उन्होंने पहले घाटी में पाकिस्तान की ओर से बड़े आतंकी हमले की अफवाह फैलाई और उसके बहाने 35,000 अतिरिक्त सुरक्षा बलों को तैनात कर दिया। हजारों अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों को जबरन कश्मीर से बाहर कर दिया। उन्होंने 400 से ज्यादा स्थानीय नेताओं को हिरासत में ले रखा है। घाटी में संचार के सभी साधनों को बंद कर दिया गया है।’

अपने गुरु से सीखे हैं मोदी और शाह : अय्यर

अय्यर ने लिखा है कि ‘मोदी और शाह ने अपनी शिक्षा अपने गुरु बेंजामिन नेतान्याहू और यहूदियों से ली है।…..उन्होंने कश्मीरियों की आजादी, गरिमा और आत्म सम्मान को कुचलना उन्हीं से सीखा है।’ उन्होंने इजरायल पर भी भड़ास निकाली है और कहा है कि वह सात दशकों से फिलीस्तिनियों के खिलाफ क्रूर ऑपरेशन चला रहा है। उनके मुताबिक पश्चिमी साम्राज्यवाद और यहूदी वॉर मशीन की बदौलत फिलिस्तिनियों की लड़ाई कुचली गई, लेकिन वे बार-बार उठ खड़े हुए। अय्यर ने ये भी दावा किया है कि ‘घाटी का भविष्य अंधेरा है और इससे देश के बाकी इलाकों में भी हालात बिगड़ेंगे।’ गौरतलब है कि इससे पहले आरजेडी सांसद मनोज झा ने भी राज्यसभा में कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने पर कहा था कि अब जम्मू-कश्मीर फिलिस्तीन बन जाएगा।

दिग्विजय-चिदंबरम के विवादित बोल

इससे पहले कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह भी कह चुके हैं कि, ‘मैंने आप लोगों से कहा था कि अगर अनुच्छेद 370 हटा तो इसके गंभीर परिणाम होंगे। देखिए, आज कश्मीर जल रहा है।’ दिग्विजय सिंह ने कहा, ‘अंतरराष्ट्रीय मीडिया का संदर्भ लें और देखें कि कश्मीर में क्या हो रहा है। सरकार ने अपने हाथ आग में झुलसा लिए हैं, कश्मीर को बचाना हमारा पहली प्राथमिकता है।’ उन्होंने ये भी कहा कि ‘मैं पीएम मोदी, अमित शाह और अजित डोवाल से सावधान रहने की अपील करता हूं कि अगर समस्‍या का जल्‍द हल ना निकाला गया तो कश्‍मीर हमारे हाथ से निकल जाएगा।’ दिग्विजय के अलावा पूर्व वित्त और गृहमंत्री पी चिदंबरम ने भी जम्मू-कश्मीर को लेकर बेहद विवादास्पद बातें कही हैं। उनके मुताबिक ‘अगर जम्मू-कश्मीर में हिंदू बहुतायत संख्या में होते तो भाजपा कभी भी आर्टिकल 370 को नहीं छूती, लेकिन जम्मू-कश्मीर मुस्लिम बहुल है, इसी वजह से इन लोगों ने आर्टिकल 370 को हटा दिया।’

ये हिस्ट्रीशीटर लोग हैं : नकवी

बीजेपी को पता है कि जम्मू-कश्मीर के मसले पर इस समय कांग्रेस बंटी हुई है। कई बड़े नेता खुलकर सरकार के पक्ष में बोल चुके हैं। इसलिए बीजेपी ने भी कांग्रेस के इन नेताओं को खूब खरी-खोटी सुनाई है। केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता मुख्तार अब्बास नकवी का दावा है कि कांग्रेस के ये नेता पाकिस्तानी न्यूज चैलन में छाने के लिए ऐसे बयान दे रहे हैं। उन्होंने एक कहा है, “ये हिस्ट्रीशीटर लोग हैं। इनमें से ही कुछ लोग तो पाकिस्तान पहुंच गए थे कि हमारी (मोदी सरकार को) हटाने की औकात नहीं है, हमारी मदद करो। ये इनकी जुगलबंदी बहुत पुरानी है। ये कदम जम्मू-कश्मीर, लद्दाख के हितों के लिए है। आर्टिकल 370 का सुरक्षा कवच पहनकर जो आतंकवादी और अलगाववादी जम्मू-कश्मीर, लेह और लद्दाख के लोगों की हितों का अपहरण कर रहे थे, उसका खात्मा हुआ है। जो लोग गुमराह करने वाले, गलतफहमी पैदा करने वाले षड़यंत्र कर रहे हैं, वे परास्त होंगे। खुद जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोग परास्त करेंगे।’