18 घंटे बाद लिंगराज महाप्रभु को मिला पानी

0
44

भुवनेश्वर। लगभग 18 घंटों के बाद महाप्रभु लिंगराज को सेवायतों की ओर से दातुन करने के लिए पानी दिया गया है। कल सुबह से उपवास रहने के बाद महाप्रभु को आज दोपहर को सेवायतों की ओर से पानी, दातुन आदि की गई है। इस घटना को लेकर लिंगराज महाप्रभु के भक्तों के मन में थोड़ी खुशी देखने को मिली है।
महाप्रभु लिंगराज को सेवायतों की ओर से फूल पानी न चढ़ाये जाने की वजह है महाप्रभु की जमीन। लिंगराज के तीन सेवायत नियोग, ब्रह्मण नियोग, पूजापंडा नियोग व बड़ु नियोग के बीच लिंगराज की जमीन को लेकर संघर्ष जारी है। लिंगराज की जमीन भुवनेश्वर ब्लाक के नूआगांव मौजा में है। इस जमीन को बड़ु नियोग के सदस्य इधर उधर हस्तान्तर कर रहे हैं। इस बात को ब्रह्मण नियोग व पूजापंडा नियोग के सेवायत सहन नहीं कर पा रहे हैं। उनका कहना है कि प्रभु लिंगराज की जमीन को बचाने का काम जिस मन्दिर प्रशासन का है वह इसे नहीं कर रहा है। इसलिए बीच-बीच में तीनों नियोग के सेवायत व मन्दिर प्रशासन के अधिकारियों के बीच लडाई झगड़ा होता रहता है। मामला पुलिस के पास भी पहुंचा है। कमिशनरेट पुलिस की ओर से इस जमीन पर धारा 144 जारी किये जाने के बावजूद भी मामला का कोई समाधान नहीं हो रहा है। ब्रह्मण नियोग व पूजापंडा नियोग चाहते हैं कि प्रशासन इसके खिलाफ कारवाई करे।
इसकी खामियाजा बीच बीच में प्रभु लिंगराज को भुगतना पड़ता है। मंगलवार को सुबह से ही दोनों ब्रह्मण नियोग व पूजापंडा नियोग की ओर से महाप्रभु का सेवापूजा बन्द कर दिया गया था। 18 घंटे बाद लिंगराज बिना पूजा पानी के रहने के बाद आज उन्हे पानी मिला है। पूछने पर ब्रह्मण नियोग के सचिव बिरंची पति ने कहा है कि आज देबोत्तर कमिशनर ने खुद हमें लिखकर दिया है कि शीघ्र ही इस समस्या का समाधान सरकार की ओर से किया जाएगा।