कोलकाता रैली में बोले शाह- हम घुसपैठियों को भगाएंगे शरणार्थियों को नहीं

0
50

कोलकाता: भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह कोलकाता में रैली को संबोधित कर रहे हैं. उन्होंने इस दौरान पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार पर हमला बोला. अमित शाह ने कहा रैली की भीड़ इस बात का संकेत है कि पश्चिम बंगाल से ममता बनर्जी का शासन खत्म होने जा रहा है.

अमित शाह ने कहा कि पहले इस रैली को रोकने की कोशिश की और अब पश्चिम बंगाल के सारे स्थानीय चैनलों को डाउन कर दिया गया है ताकि लोग इस रैली का प्रसारण न देख सकें. उन्होंने कहा कि बीजेपी पश्चिम बंगाल की विरोधी कैसे हो सकती है, जबकि हमारी पार्टी के संस्थापक श्यामा प्रसाजद मुखर्जी बंगाल से ही थे. उन्होंने कहा कि बीजेपी बंगाल विरोधी नहीं, ममता विरोधी है.

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि ममता बनर्जी या राहुल गांधी की कोशिशों से एनआरसी की प्रकिया नहीं रुकेगी. उन्होंने कहा कि एनआरसी घुसपैठियों को भगाने के लिए है. असम में न्यायिक तरीके से इसे लागू किया जाएगा. उन्होंने कहा कि पहले घुसपैठियों का वोट कम्युनिस्ट पार्टियों को मिलता था तो ममता बनर्जी घुसपैठियों का विरोध करती थीं, लेकिन जब उन्हें इससे वोट मिलने लगे तो अब वह एनआरसी का विरोध कर रही हैं.

अमित शाह ने कहा कि एनआरजी असम अकॉर्ड के तहत बनाया जा रहा है, जो पूर्व पीएम राजीव गांधी ने किया था. तब कांग्रेस ने इसका विरोध नहीं किया, आज वोटबैंक के लिए इसका विरोध कर रही है. घुसपैठिये ही पश्चिम बंगाल में विस्फोट करते हैं. हमारी पार्टी इस राज्य के शरणार्थियों को भरोसा देना चाहती है कि हम ही सिटिजनशिप अमेंडमेंट बिल 2016 लेकर आए हैं, जिसमें उनको नागरिकता दी गई है.

शाह ने कहा कि ममता सरकार जब से आई है, चारों ओर भ्रष्टाचार देखने को मिल रहा है, कानून व्यवस्था की धज्जियां उड़ रही हैं, कारखाने बंद हो रहे हैं और बम बनाने के कारखाने खुल रहे हैं, अपराध के सारे रिकॉर्ड टूट गए हैं. बीजेपी की सरकार आई तो ईमानदार, सख्त कानून व्यवस्था वाली और पश्चिम बंगाल को पुरानी सांस्कृतिक पहचान दिलाएगी.

अमित शाह ने कहा कि हाल में हुए पंचायत चुनावों में विपक्षी उम्मीदवारों को उतरने ही नहीं दिया गया और निर्विरोध चुने जाने का भी रिकॉर्ड बना दिया. पार्टी के 65 कार्यकर्ताओं को मार दिया गया, इसके बावजूद पार्टी ने शानदार प्रदर्शन किया.

टीएमसी कार्यकर्ताओं ने किया विरोध

पश्चिम बंगाल के हावड़ा में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) कार्यकर्ताओं ने अमित शाह की रैली का विरोध करते हुए उनके पुतले फूंके और उनकी रैली के विरोध में नारेबाजी की. शाह की रैली को देखते हुए सुरक्षा बढ़ाई गई है. तृणमूल कांग्रेस के महासचिव और राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि शनिवार की योजना से राज्य की राजधानी कोलकाता को बाहर रखा गया है. उन्होंने कहा कि कोलकाता को छोड़कर, हम एनआरसी के विरोध में पूरे राज्य में रैलियां आयोजित करेंगे. कोलकाता में रविवार को अलग से एक रैली निकाली जाएगी. साथ ही उन्होंने असम सरकार पर एनआरसी मसौदे से बंगालियों को जानबूझकर बाहर रखने का आरोप भी लगाया. टीएमसी नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजंस यानी एनआरसी के खिलाफ पूरे राज्य में धिक्कार दिवस मना रही है. हालांकि कोलकाता में अमित शाह की रैली के चलते यहां रविवार को धिक्कार दिवस के तहत रैली निकाली जाएगी.

बीजेपी समर्थकों की बस पर हमला

अमित शाह की रैली में शामिल होने के लिए कोलकाता आ रहे बीजेपी समर्थकों की बस पर हमला किया गया है. जानकारी के मुताबिक शुक्रवार रात कोलकाता जा रही बीजेपी समर्थकों से भरी बस पर पश्चिमी मिदनापुर के चंद्रकोर में हमला किया.

शाह की रैली से पहले लगे बीजेपी विरोधी बैनर

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की शनिवार को कोलकाता में होने वाली रैली से पहले आयोजन स्थल के आसपास बीजेपी विरोधी पोस्टर-बैनरों की रातों-रात भरमार हो गई. पार्क स्ट्रीट के सामने मायो रोड पर ऐसे बैनर लगे देखे गए जिन पर लिखा था- ‘ANTI-BENGAL BJP GO BACK’ (बंगाल विरोधी बीजेपी वापस जाओ). पार्क स्ट्रीट पर ही अमित शाह की रैली का आयोजन होना है.

रैली पर मंडरा रहे थे बादल

बता दें कि आज होने वाली अमित शाह की रैली को लेकर पहले ये अटकलें लगाई जा रही थीं कि उन्हें यहां रैली की अनुमति नहीं मिलेगी लेकिन बाद में कोलकाता पुलिस ने आधिकारिक बयान जारी करते हुए सभी अटकलों पर विराम लगा दिया था और अमित शाह को कोलकाता में रैली करने की अनुमति दे दी गई थी.

अमित शाह ने भी कहा था कि ये मायने नहीं रखता कि मुझे कोलकाता में रैली करने की अनुमति मिले या नहीं मिले लेकिन मैं निश्चित तौर पर कोलकाता जाऊंगा, अगर राज्य सरकार चाहे तो मुझे गिरफ्तार कर सकती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here