करतारपुर: श्रद्धालुओं को दो हिस्सों में बांटेगा पाकिस्तान

0
46

इस्लामाबाद: पाकिस्तान ने करतारपुर में मौजूद सिखों के तीर्थस्थल दरबार साहिब गुरुद्वारा आने वाले श्रद्धालुओं को दो कैटिगरी में बांटने का फैसला किया है। इस कैटिगरी में एक भारतीय श्रद्धालु होंगे और दूसरे विश्व के बाकी हिस्सों से आने वाले श्रद्धालु।

रिपोर्ट के मुताबिक, विदेश मंत्रालय ने ऑनलाइन वीजा सिस्टम में धार्मिक पर्यटन कैटिगरी जोड़ने का फैसला किया है। रिपोर्ट के मुताबिक, ‘विदेश मंत्रालय ने दो अलग-अलग तरह के वीजा कैटिगरी तय की है, एक भारत से आने वाले सिख श्रद्धालुओं के लिए होगा और दूसरा विश्व के बाकी हिस्से से आने वालों के लिए।’

हालांकि, धार्मिक पर्यटन वीजा के लिए आवेदन सात से 10 कार्य दिवस में प्रोसेस किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि भारत और पाकिस्तान ने बुधवार को गुरुद्वारा दरबार साहिब में भारतीय श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए वीजा फ्री ट्रेवल पर सहमति बनाई है, हालांकि अभी यह क्रॉस-बॉर्डर मार्ग को लेकर रुक गया है।

इससे पहले दोनों पक्षों ने हर दिन 5,000 भारतीय श्रद्धालुओं को गुरुद्वारा जाने देने पर सहमति बनाई थी, जिसके लिए प्रस्तावित कॉरिडोर का इस्तेमाल होना था। हालांकि, विशेष मौके पर श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ाने का भी प्रावधान था। लेकिन बुधवार को दोनों पक्ष समझौते के ड्राफ्ट पर एकमत नहीं बना पाए क्योंकि पाकिस्तान ने इस बात पर जोर दिया कि भारतीय श्रद्धालुओं की एंट्री पर सर्विस फी ली जाएगी और साथ ही प्रोटोकॉल अधिकारियों को जाने देने की भी अनुमति नहीं देने पर अड़ा रहा।

पाकिस्तान का सुझाव है कि श्रद्धालुओं से 20 डॉलर चार्ज किया जाएगा, लेकिन भारत ने कहा कि यह चार्ज मुद्दा नहीं है, लेकिन किसी शुभ अवसर पर किसी भी गुरुद्वारा जाने के लिए कोई चार्ज नहीं लिया जाता है। बता दें कि प्रस्तावित कॉरिडोर करतारपुर के दरबार साहिब को गुरदासपुर (पंजाब) के डेरा बाबा नानक से जोड़ेगा।