कंगना रनौत ने किया खुलासा, कहा- भीड़ के बीच किसी ने की गलत हरकत

0
175

मुंबई : कंगना रनौत ने अपनी फिल्म मणिकर्णिका की रिलीज से पहले कई मुद्दों पर अपनी बात रखी है। फिल्म इंडस्ट्री में महिलाओं के यौन शोषण पर उन्होंने रानी मुखर्जी के उस बयान का समर्थन किया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि महिलाएं अपनी सरक्षा के लिए खुद जिम्मेदार हैं।

कंगना ने अपने साथ हुई एक घटना का जिक्र करते हुए बताया कि एक दफा काफी लोगों के बीच में मेरी कमर के नीचे हाथ लगाया गया और पिंच किया गया। उसने कहा कि वो शख्स मेरे पास ही खड़ा होकर ये सब कर रहा था।

मीटू से फर्क पड़ा है: कंगना

मीटू कैंपेन के बाद महिलाओं के प्रति नजरिये में बदलाव की बात कंगना रनौत ने कही है। कंगना का कहना है कि अब लोग किसी हीरोइन को परेशान करने से पहले दस बार सोचते हैं। कंगना ने कहा कि आपके साथ गलत होता है तो फिर चुप नहीं रहना चाहिए, इस पर खुलकर बोलना चाहिए।

‘केवल शारीरिक ही नहीं होता उत्पीड़न’

कंगना रनौत का कहना है कि उनके साथ एक बार नहीं बल्कि कई बार सेट पर इस तरह की घटनाएं हुईं हैं और एक्टर्स ने उनका उत्पीड़न किया है। कंगना ने कहा कि उन्होने मीटू अभियान के तहत आवाज नहीं उठाई क्योंकि ये अनुभव शारीरिक नहीं थे, बल्कि डराने वाले और अपमानजनक थे। जो मेरे साथ हुआ वो मीटू में तो नहीं आता है लेकिन ये भी एक तरह का उत्पीड़न ही है। मेरे साथ काफी अलग तरह उत्पीड़न किया जाता था।

‘सेट पर घंटों कराया गया इंजतार’

कंगना ने कहा, मुझे सेट पर छह घंटे तक इंतजार कराया जाता, मुझे हमेशा गलत तारीखें बताई जातीं थी ताकि मेरे हाथ से मौका निकल जाए और फिर ये एक्टर लोग अंतिम समय पर शूटिंग रद्द कर देते थे। मुझे बताए बिना मेरी आवाज मेरी अनुमति के बगैर किसी और से डब करा देते थे। मुझे जानबूझकर गलत समय दिया जाता था ताकि मुझे इंतजार करना पड़े, मेरे खिलाफ गुटबाजी करते थे और मुझे फिल्म से जुड़ कार्यक्रमों में नहीं बुलाते थे। मेरे बिना फिल्म का ट्रेलर लॉन्च कर देते थे। ऐसी काफी सारी बातों का मैने सामना किया है।

इस हफ्ते रिलीज हो रही है मणिकर्णिका

कंगना रनौत इन दिनों अपनी आने वाली फिल्म मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी के प्रमोशन में लगी हुई हैं। फिल्म में उनकी मुख्य भूमिका है, वो झांसी की रानी के किरदार में नजर आएंगी। फिल्म को लेकर विवाद भी हो रहा है। फिल्म को लेकर करणी सेना ने धमकी दी है कि रिलीज से पहले अगर उन्हें फिल्म नहीं दिखाई जाएगी तो वे थिएटर्स में तोड़-फोड़ करेंगे।

इस संगठन के लोगों का कहना है कि फिल्म में फिल्म में रानी लक्ष्मीबाई और एक ब्रिटिश अफसर के बीच प्रेम प्रसंग के बारे में दिखाया गया है, जिस पर उन्हें आपत्ति है और इस सीन को हटाया जाना चाहिए। कंगना ने कहा है कि फिल्म पर सेंसर से सर्टिफिकेट मिल गया है, हम किसी संगठन को फिल्म नहीं दिखाएंगे।