ईरान के राष्ट्रपति हसन रुहानी ने कहा- पाक करे आतंकियों के खिलाफ निर्णायक कार्रवाई

0
145

तेहरान: इस समय पाकिस्तान का आतंक जोरों पर है. तो वही पाक की इस घिनोनी हरकत पर सभी देशों की नज़रे  है. ईरान के राष्ट्रपति हसन रुहानी ने पाकिस्तान से आतंकियों के खिलाफ निर्णायक कार्रवाई करने की मांग की है। रूहानी ने कहा कि आतंकियों के खिलाफ इस्लामाबाद के कार्रवाई नहीं करने से पड़ोसी देशों के संबंध खराब हो सकते हैं। ईरान की सरकारी समाचार एजेंसी इरना (IRNA) ने कहा कि राष्ट्रपति रुहानी ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से फोन कर बात कर आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा है।

इस पर इमरान खान ने कहा कि ईरान के लिए जल्द ही अच्छी खबर आएगी। बताते चलें कि 13 फरवरी को ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड्स के काफिले पर पुलवामा की तर्ज पर हमला किया गया था, जिसमें 27 सुरक्षाकर्मियों की मौत हुई थी। सुन्नी जिहादी समूह जैश-अल-अद्ल ने हमले की जिम्मेदारी ली थी।

ईरान का दावा है कि पाकिस्तान के एक आत्मघाती हमलावार ने ही सिस्तान-बलूचिस्तान प्रांत में रेवॉल्यूशनरी गार्ड्स पर हमले को अंजाम दिया था। ईरान का मानना है कि यह समूह पाकिस्तान की धरती से आतंकवादी गतिविधियां चलाता है। ईरान ने पाकिस्तान की सेना और खुफिया एजेंसी पर आतंकियों को शरण देने का आरोप लगाया था।

हसन रुहानी ने शनिवार शाम को इमरान खान से फोन पर बात की थी। इस दौरान उन्होंने रिश्ते बेहतर बनाने की अपील की। ईरान सरकार की ओर से जारी बयान के मुताबिक रुहानी ने कहा कि हमें जिहादी समूहों की वजह से दोनों देशों के बीच दशकों पुरानी दोस्ती तथा भाईचारे को प्रभावित नहीं होने देना चाहिए।

उन्होंने कहा कि दोनों देश जानते हैं कि उन्हें हथियार और वित्तीय मदद कहां से मिल रही है। ईरान के राष्ट्रपति का इशारा अमेरिका, इजराइल के साथ-साथ सऊदी अरब तथा संयुक्त अरब अमीरात की ओर था। ईरान का आरोप है कि ये देश पाकिस्तान की धरती पर मौजूद जिहादी समूहों को मदद पहुंचाते है।