2035 तक बदल जाएगा भारत का ‘सूरत’, इतनी हो जाएगी इकोनॉमिक ग्रोथ

0
28

नईदिल्ली। दुनिया भर में तेजी से इकोनॉमिक ग्रोथ करने वाले 20 शहरों में टॉप-10 भारत के हैं। ऑक्सफोर्ड इकोनॉमिक्स की रिपोर्ट के अनुसार ग्लोबल सिटीज रिसर्च में गुजरात का सूरत शहर तेजी से ग्रोथ कर रहा है। साल 2035 तक इस शहर की सालाना औसत ग्रोथ 9.17 प्रतिशत रहने की उम्मीद है। इस सूची में 8.58 प्रतिशत के साथ दूसरे नंबर पर आगरा और 8.5 प्रतिशत के साथ तीसरे नंबर पर बेंगलुरु हो सकता है।

कम रहेगा भारत का इकोनॉमिक आउटपुट

ये ताजा रिपोर्ट सुकून देने वाली है क्योंकि 2019 से 2035 के बीच दुनियाभर के 20 तेजी से विकास करने वाले शहरों में से 17 भारत के हैं। हम जीडीपी ग्रोथ रेट की अगर बात करें तो ग्लोबल इकोनॉमिक की ये रिपोर्ट बहुत मायने रखती है। हालांकि रिपोर्ट के अनुसार भारतीय शहरों का इकोनॉमिक आउटपुट दूसरे देशों के मुकाबले कम रहेगा।

भारत के इन शहरों में होगा तेजी से विकास

तेजी से विकास करने वाले शहरों में बेंगलुरु, हैदराबाद, चेन्नई सबसे आगे हैं। वहीं सूरत टॉप 10 की सूची में नंबर वन पर है। सूरत के बाद आगरा और बेंगलुरु है। हैदराबाद चौथे नंबर पर है, जबकि इसके बाद नागपुर, तिरुपुर, राजकोट, तिरुचिरापल्ली, चेन्नई और विजयवाड़ा है।

इसलिए टॉप पर है सूरत

गौरतलब है कि सूरत हीरों के व्यापार वाला प्रमुख शहर है। इस शहर से दुनियाभर में हीरों का व्यापार होता है। हीरों के साथ ही सूरत आईटी हब के लिए भी जाना जाता है। टेक्नोलॉजी के मामले में बेंगलुरु, हैदराबाद और चेन्नई भी सबसे आगे हैं। भारत के अलावा यदि हम किसी अन्य देश या शहर की बात करें तो इसमें अफ्रीकी शहर मोम पेंह तेजी से विकास करने वाला शहर हो सकता है।

जनसंख्या के मामले में टॉप-10 से बाहर होगा मुंबई

रिपोर्ट के अनुसार जनसंख्या की यदि हम बात करें तो मुंबई टॉप-10 शहरों की लिस्ट से बाहर हो सकता है। साल 2035 तक भारतीय शहरों का कुल जीडीपी चीन की तुलना में काफी कम होगा। वहीं, एक्सपर्ट का कहना है कि जीडीपी के मामले में भारत के शहर स्टार परफॉर्मर हो सकते हैं।

रिपोर्ट के अनुसार न्यूयॉर्क फिर पहले नंबर पर

रिपोर्ट के अनुसार साल 2035 तक न्यूयॉर्क हमेशा की तरह पहले नंबर पर सबसे बड़ा शहरी अर्थव्यवस्था वाला शहर बना रहेगा। दूसरे नंबर पर टोक्यो और तीसरे नंबर पर लॉस एंजेलिस होगा। इनके बाद शंघाई और लंदन इस लिस्ट में हो सकते हैं। जानकारी के अनुसार ये सारी रिपोर्ट थर्ड पार्टी द्वारा उपलब्ध कराई गई सूचनाओं और आंकड़ों के आधार पर तैयार की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here