पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव के मामले में 17 जुलाई को फैसला सुनाएगा ICJ

0
142

पाकिस्तान की जेल में कैद भारतीय वायुसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव पर इसी महीने फैसला आएगा. अंतरराष्ट्रीय अदालत की ओर से जारी किए गए पत्र के अनुसार 17 जुलाई को मामले पर फैसला सुनाया जाएगा. इससे पहले विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा था कि ‘इस मामले पर फैसला अगले कुछ हफ्तों में आ जाएगा. इस मामले में जिरह हो चुकी है. अंतरराष्ट्रीय अदालत इस पर फैसला सुनाएगी. फिलहाल इसके लिए तारीख का ऐलान होना बाकी है.’

पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने 48 वर्षीय जाधव को अप्रैल 2017 में फांसी की सजा सुनाई थी. पाकिस्तान ने उन पर भारत का जासूस होने के आरोप लगाए हैं. कुलभूषण जाधव भारतीय नागरिक हैं, पाक की ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई ने जाधव का अपहरण ईरान से किया था.

जानें कुलभूषण मामले में कब क्या हुआ?

25th मार्च 2016: भारत को जाधव की हिरासत की जानकारी मिली.
11 अप्रैल 2017: पाकिस्तान की मिलिट्री कोर्ट ने जाधव को मौत की सज़ा सुनाई.
8 मई 2017: भारत ने आईसीजे का दरवाज़ा खटखटाया.
15 मई 2017: मामले में सुनवाई हुई.
18 मई 2017: आईसीजे ने फांसी पर रोक लगाई.
25 दिसंबर 2017: जाधव की मां और पत्नी ने पाक जाकर जाधव से मुलाकात की.
28 दिसंबर 2017: विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इस मुलाकात की जानकारी संसद को दी.

19 फरवरी 2019 को हुई थी सुनवाई

ICJ में कुलभूषण जाधव मामले में 19 फरवरी को पाकिस्तान के एटॉर्नी जनरल अनवर मंसूर खान ने पाकिस्तान का पक्ष रखा था. खान ने आईसीजे में दलील दी थी कि जाधव भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ के अधिकारी हैं. पाक ने दावा किया था कि RAW ने कुलभूषण को बलूचिस्तान में हमला करवाने के लिए भेजा था.

खान ने आरोप लगाया था कि साल 2014 में पेशावर के आर्मी स्कूल में हुए हमले में भारत का हाथ था. इससे पहले 18 फरवरी को सुनावाई के दौरान अपना पक्ष रखते हुए भारत ने कहा था कि पाकिस्तान इस मामले में उचित प्रक्रिया के न्यूनतम मानकों को भी पूरा करने में असफल रहा है. भारत ने यह भी अपील की थी कि इंटरनेशनल कोर्ट पाकिस्तान के फैसले को गैरकानूनी घोषित करे.