इस भारतीय गेंदबाज के बॉलिंग एक्शन की अंपायर ने की शिकायत, ICC करेगा जांच

0
94

नई दिल्ली : भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सिडनी में खेले गए सीरीज के पहले वनडे मैच में टीम इंडिया की 34 रन से हार के बाद एक बुरी खबर आई है। पार्ट टाइम गेंदबाज अंबाती रायुडू के बॉलिंग एक्शन की मैच ऑफीशियल्स ने शिकायत की है। मैच के दौरान रायुडु ने पार्ट टाइम गेंदबाज की भूमिका अदा की थी।

इस दौरान वो श्रीलंका के पूर्व स्पिनर मुथैया मुरलीधरन जैसे एक्शन के साथ गेंदबाजी करते दिखे थे। इस शिकायत का ज्यादा असर टीम इंडिया पर नहीं पड़ेगा। शिकायत को 14 दिन के अंदर उन्हें अपने गेंदबाजी एक्शन की जांच करानी होगी। जब तक जांच का परिणाम नहीं आ जाता तब तक वो गेंदबाजी कर सकते हैं।

आमतौर पर रायुडू गेंदबाजी करते हुए कम ही दिखाई देते हैं लेकिन शनिवार को खेले गए मैच में केदार जाधव की गैरमौजूदगी में विराट कोहली ने उनसे गेंदबाजी करवाई। उन्होंने 2 ओवर के अपने स्पेल में 13 रन खर्च किए और कोई विकेट नहीं हासिल कर सके। गेंदबाजी में वो अपने रंग में नहीं दिखे तो विराट ने उन्हें 2 ओवर बाद ही हटा दिया लेकिन 12 गेंद के अंतराल में ही अंपायर्स को उनका एक्शन संदिग्ध लगा और उन्होंने इसकी शिकायत दर्ज करा दी।

आईसीसी ने अपने बयान में कहा कि 33 वर्षीय रायुडु के संदिग्ध एक्शन संबंधी रिपोर्ट भारतीय टीम मैनेजमेंट को भेज दी गई है। रिलीज में कहा गया कि रायुडु के संदिग्ध गेंदबाजी एक्शन की जांच होगी। उन्हें 14 दिन के अंदर जांच से गुजरना होगा। इस दौरान रायुडु अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में गेंदबाजी करते रहेंगे जबतक जांच की रिपोर्ट्स नहीं आ जाती।

रायुडू ने 46 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों के अपने करियर के दौरान सिर्फ 20.1 ओवर गेंदबाजी की है। इस दौरान उन्होंने 41.33 के औसत से तीन विकेट चटकाए और 6.14 रन प्रति ओवर की दर से रन खर्च किए हैं। उन्होंने छह टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में कभी गेंदबाजी नहीं की।