गृहमंत्री राजनाथ सिंह पहुंचे केरल, अब तक 1000 से अधिक लोग बचाए गए

0
77

तिरुवनंतपुरम : पिछले कुछ दिनों से भारी बारिश और भूस्खलन से जूझ रहे केरल के कुछ इलाकों में रविवार सुबह फिर बारिश हुई है। इससे वहां आम लोगों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। सबसे ज्यादा असर बचाव अभियान पर पड़ा है और बाढ़ प्रभावित इलाकों से लोगों को निकालने में दिक्कतें हो रही हैं। अब तक महिलाओं, बुजुर्गों और बच्चों समेत 1000 से अधिक लोगों को बाढ़ग्रस्त इलाकों से निकाला जा चुका है।

इस बीच केरल के तमाम हिस्सों में बाढ़ के हालात के बीच गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने राज्य का दौरा किया है। गृह मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक केरल के इस दौरे पर राजनाथ बाढ़ग्रस्त इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे। इसके साथ ही गृहमंत्री और केंद्रीय मंत्री के.जे. अल्फोंस गृह मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ एर्नाकुलम और वायनाड जिले के राहत शिविरों का दौरा भी करेंगे। इस दौरे पर गृहमंत्री राज्य सरकार के अधिकारियों के साथ यहां राहत कार्यों की समीक्षा भी करेंगे।इन इलाकों में सबसे अधिक नुकसान
बता दें कि केरल में तमाम जिलों में भारी बारिश और बाढ़ की स्थितियां लगातार बनी हुई हैं। भारतीय सेना की ओर से जारी बयान के मुताबिक बाढ़ से सबसे ज्यादा नुकसान राज्य के कन्नूर, वायनाड, इडुक्की, मल्लपुरम और कोझिकोड के इलाकों में हुआ है।

सेना ने एक हजार से अधिक लोगों को किया रेस्क्यू
सेना के मुताबिक इन सभी क्षेत्रों में राहत कार्य के लिए जवानों की 40 टीमों को लगाया गया है, जिससे कि बाढ़ में फंसे सभी लोगों को सुरक्षित रेस्क्यू किया जा सके। भारतीय सेना ने अपने बयान में कहा है कि जवानों द्वारा आम लोगों को रेस्क्यू करने के लिए बेहद बड़े स्तर पर अभियान चलाए जा रहे हैं और अब तक महिलाओं, वृद्धजनों और बच्चों समेत 1000 से अधिक लोगों को बाढ़ग्रस्त इलाकों से निकाला जा चुका है

इडुक्की बांध के जलस्तर में आई गिरावट वहीं दूसरी ओर बाढ़ के हालात के बीच राज्य में स्थित इडुक्की बांध में रविवार को जलस्तर में गिरावट आई है। बांध का जलस्तर अभी 2,399.28 फीट है। हालांकि एनार्कुलम और त्रिशूर जिलों के कई हिस्सों में अब भी बाढ़ जैसी स्थितियां बनी हुई हैं। मौसम अधिकारियों के मुताबिक, शनिवार सुबह 24 घंटे की अवधि में इडुक्की जिले में 90 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। बांध का जलस्तर अब 2,400 फीट के निशान से नीचे है लेकिन जिला प्रशासन ने कहा कि बांध के पांच द्वारों को बंद करने का फैसला बारिश पर निर्भर करेगा। इडुक्की बांध से पानी छोड़े जाने के बाद एहतियातन 10 हजार से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है

बाढ़ पीड़ितों के लिए मुआवजे का ऐलान
बता दें कि केरल में बाढ़ के हालातों के बीच अब तक 37 लोगों की मौत हो चुकी है। शनिवार को राज्य के सीएम पी.विजयन ने बाढ़ ग्रस्त इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया था। सर्वेक्षण के बाद सीएम पिनाराई विजयन ने कहा, ‘केरल भयंकर बाढ़ से गुजर रहा है और आपदा के कारण काफी नुकसान हुआ है। अपने घरों और भूमि को खोनेवाले लोगों को 10 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा और अपने परिवार के सदस्य को गंवाने वालों को चार लाख रुपये दिए जाएंगे।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here