किसानों के लिए अच्छी खबर, इस साल सामान्य रहेगा मानसून 97 प्रतिशत बारिश का अनुमान

0
258

नयी दिल्ली : देश में इस वर्ष मानसून के सामान्य रहने का अनुमान है जिससे फसलों के बेहतर पैदावार की संभावना है। मौसम विभाग के महानिदेशक के जे रमेश ने आज यहां संवाददाता सम्मेलन में इस वर्ष का पहला मानसून पूर्वानुमान जारी करते हुए कहा कि इस वर्ष मानसून के सामान्य रहने की संभावना है। मानसून लम्बी अवधि के 97 प्रतिशत रहेगा ।

उन्होंने बताया कि मानसून मई के मध्य में सबसे पहले केरल पहुंचेगा और 45 दिनों के अंदर पूरे देश में फैल जायेगा। यह लगातार तीसरा वर्ष है जब मानसून सामान्य रहेगा। देश में करीब 45 प्रतिशत सिंचित क्षेत्र है औँर शेष भूमि पर वर्षा आधारित खेती की जाती है जिसके लिए मानसून का सामान्य रहना बेहद महत्वपूर्ण हो जाता है।

निजी एजेंसी ने भी किया है सामान्य मानसून का दावा

पिछले 5 सालों में 2015 में मानसून सबसे कमजोर रहा, जब 14% कम बारिश हुई। इससे पहले निजी एजेंसी स्काईमेट भी सामान्य मानसून का पूर्वानुमान जारी कर चुकी है। स्काईमेट के मुताबिक जून से सितंबर के दौरान 100% बारिश होगी। इस दौरान 887 मिमी बारिश का अनुमान जताया गया है। यह अनुमान 5% ऊपर-नीचे रह सकता है। बता दें कि 96% से 104% के बीच बारिश को सामान्य माना जाता है।

इकोनॉमी पर मानसून का असर

सामान्य मानसून का सीधा असर ग्रामीण आबादी पर पड़ता है। मानसून सामान्य और अच्छा रहने से ग्रामीण इलाकों में लोगों की आय बढ़ती है, जिससे मांग में भी तेजी आती है। ग्रामीण इलाकों में आय बढ़ने से इंडस्ट्री को भी फायदा मिलता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here