होने लगी ईद की आहट, शुरू हुई सेवंई पकाने की तैयारी

0
124

नई दिल्ली: सब्र और इबादत से पुरनूर रमजान का महीना खत्म होने की दस्तक के साथ ही मीठी ईद पर तरह तरह के पकवान और खास तौर पर सेवंई बनाने की तैयारियां पूरे शबाब पर हैं और लोग कपड़ों से लेकर सेवंई, मेवे, खोया खरीदने के लिए बाजारों का रूख कर रहे हैं।

Related image

सेवंईयों से बढ़ती ईद की मिठास

ईद-उल-फितर के मौके पर हर घर में लजीज शीर खुरमा बनाने की रवायत है। लोग नाते रिश्तेदारों के यहां ईद की मुबारक देने जाते हैं तो अन्य तमाम पकवानों के साथ मीठी सेवंई परोसी जाती है। दूध को घंटों उबालकर मेवों के साथ बनाई जाने वाली यह सेवंईयां ईद की मिठास को और भी बढ़ा देती हैं।

Image result for ईद के चाँद

हर किसी को ईद के चाँद का इंतजार

रोजेदारों को तो ईद के चांद का इंतजार होता ही है, रमजान की आखिरी रात डेयरी वाले भी आसमान की तरफ टकटकी लगाए रहते हैं क्योंकि चांद रात पर दूध की खपत लगभग दोगुनी हो जाती है और उन्हें इसके लिए पहले से तैयारी रखनी पड़ती है।

Related image

पुरानी दिल्ली में रहने वाले मो नईम का कहना है कि आज चांद रात होने की पूरी संभावना है। इसलिए दूध और सेवईं खरीदने के लिए चांद के दीदार का इंतजार करना अक्लमंदी नहीं है क्योंकि चांद दिखने के बाद दुकानों पर भीड़ बहुत बढ़ जाती है। उन्होंने कहा कि उन्होंने शाम में चांद दिखने से पहले ही ईद पर शीर-खुरमा बनाने के लिए सामान खरीदने का फैसला किया है। गौरतलब है कि गुरूवार को चांद दिख जाता है तो शुक्रवार को ईद होगी। अगर ऐसा नहीं होता है फिर शनिवार को ईद का त्यौहार मनाया जाएगा।

Related image

मुस्तकीम बताते हैं कि चांद दिखने के बाद सेवई और दूध खरीदने के लिए बाजार का रूख करने का नुकसान यह भी होता है कि कई बार डेयरियों पर दूध खत्म हो जाता है। इससे ईद पर सेवईं बनाने की योजना खटाई में पड़ जाती है। उन्होंने कहा कि अगर आज चांद नहीं हुआ तो दूध को फ्रिजर में रख देंगे जिससे वह खराब नहीं हो। शुक्रवार को ईद नहीं होने पर शनिवार को तो ईद का त्यौहार मनाया जाना ही है।

रजमान के महीने में 29 या 30 रोजे

रजमान के महीने में 29 या 30 रोजे होते हैं। इनकी संख्या चांद दिखने के आधार पर तय होती है। अधिकतर लोगों के लिए गुरूवार को 29वां रोजा है। इसलिए आज रात चांद दिखने की संभावना है। दरिया गंज की मदर डेयरी के संचालक उपेंद्र ने बताया कि ईद के मद्देनजर उन्होंने 900 लीटर दूध मंगवाया है। वैसे आम दिनों में 550 लीटर ही दूध मंगवाते हैं।

Related image

बढ़ती दूध की खरीददारी

इसी इलाके के माजिद दूध भंडार के फैजान बताते हैं कि चांद रात को दूध की खरीद दोगुनी हो जाती है। जो शख्स आमतौर पर एक या दो लीटर दूध खरीदता है, वह ईद की वजह से चार-पांच लीटर दूध लेता है।

उन्होंने बताया कि हमारी डेयरी पर रोजाना करीब 300-400 लीटर दूध की खपत होती है, मगर ईद पर यह खपत लगभग दोगुनी होकर 800 लीटर हो जाती है। हमने आज के लिए 800 लीटर दूध लाने का ऑर्डर दिया है। यही हाल मुस्लिम इलाके की कमोबेश हर डेयरी का है।

Related image

यूपी वासियों को पसंद आती है बनारसी सेवंई

उधर, चितली कब्र इलाके में सेवंई के दुकानदार उवेज जावेद खान ने बताया कि बाजार में कई तरह की सेवइयां पसंद की जाती है, लेकिन सबसे ज्यादा मांग बनारसी सेवंई की है। यह मशीन से तैयार की जाती है और एकदम महीन होती हैं। इसे आम तौर पर उत्तर प्रदेश से ताल्लुक रखने वाले लोग लेना पसंद करते हैं। इसे बनारसी छत्ता कहते हैं।

Related image

दिल्ली वालो को पसंद है रूमाली सेंवंई

उन्होंने कहा कि रूमाली सेंवई और बारीक सेवंई की भी मांग है। यह सीक की तरह बारीक और लंबी होती है। इसे दिल्ली के रहने वाले लोग ज्यादा पसंद करते हैं। खान ने बताया कि ईद पर फेहनी बहुत कम लोग खरीदते हैं, क्योंकि रमजान में ज्यादातर लोग सहरी में इसे दूध में डालकर खाना पसंद करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here