ग्लोइंग त्वचा के लिए पीते हैं ज्यादा पानी तो हो जाएं सतर्क, बढ़ सकता है वजन

0
129

खूबसूरत निखरी त्वचा पाने के लिए आपने ब्यूटी एक्सपर्ट्स को पानी का सेवन अधिक करने की सलाह देते हुए तो कई बार सुना होगा. हो सकता है यह सलाह कई बार आपको भी मिल चुकी हो, पर क्या आप जानते हैं जरूरत से ज्यादा पानी पीने से आपकी फिटनेस पर बुरा असर पड़ता है. जी हां आप मोटापे का शिकार हो सकते हैं. आइए जानते हैं आखिर क्या है इसके खास लक्षण.

कई बार व्यक्ति सुबह उठते ही आंखों के नीचे सूजन और पेट में गैस महसूस करने लगता है. यह दोनों ही लक्षण शरीर में पानी जमा होने की तरफ इशारा करते हैं. शरीर में पानी जमा होने की वजह से व्यक्ति का वजन बढ़ने लगता है.

दरअसल शरीर में बचा हुआ पानी आपके शरीर में इलेक्ट्रोलाइट का बैलेंस बिगाड़ता है. इससे पानी शरीर में जमा हो जाता है और आपका वजन बढ़ जाता है. हालांकि 24 घंटे में ही ये जमा हुआ पानी आपके शरीर से काफी मात्रा में बाहर निकल जाता है.

लेकिन यदि आप रोजाना ज्यादा पानी पीने की आदत है, तो आपको मोटापे की समस्या हो सकती है।इस तरह के बढ़े हुए वजन से निजात पाना व्यक्ति के लिए काफी मुश्किल होता है. लेकिन वक्त रहते अगर आप इसके पीछे छिपे कारणों का पता लगा लेते हैं तो आप इस परेशानी से निजात पा सकते हैं.

मानव शरीर का 60 प्रतिशत भाग पानी से बना होता है, जिसका अधिकांश भाग कोशिकाओं में बना रहता है. ऊतकों में द्रव एकत्र होने पर व्यक्ति पानी का वजन बढ़ाता है, जिससे शरीर में सूजन होती है और शरीर कें अंगों और त्वचा के बीच अतिरिक्त तरल पदार्थ को जमा होता है.

मस्तिष्क में सूजन :

शोध में पाया गया है कि शरीर में ज्यादा मात्रा में पानी जमा होने पर शरीर में सोडियम का लेवल तेजी से कम होने लगता है। सोडियम का स्तर घटने से मस्तिष्क में सूजन आ सकती है, जो कि एक गंभीर बात है.

किडनी पर बुरा असर :

जरूरत से ज्यादा पानी पीने से व्यक्ति को ओवरहाईड्रेशन की समस्या पैदा होने लगती है. जिसका सीधा असर किडनी पर पड़ने लगता है.

अधिक नमक :

शरीर में पानी की मात्रा ज्यादा होने की सबसे बड़ी वजह नमक का ज्यादा सेवन है. सोडियम का ज्यादा सेवन करने से शरीर में द्रव बढ़ने और एकत्र होने का खतरा बढ़ जाता है.

हार्मोन्स :

बर्थ कंट्रोल हार्मोनल भी कभी-कभी शरीर में पानी के वजन को बढ़ा सकता है. जन्म नियंत्रण की गोलियों में एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टिन वजन के पैमाने में उतार-चढ़ाव को जन्म दे सकते हैं.

कोर्टिसोल :

कोर्टिसोल, को लोग ‘तनाव वाले हॉर्मोन’ के रूप में पहचानते हैं. कई बार यह हॉर्मोन शरीर में पानी बढ़ने की मुख्य वजह बन जाता है. यह हार्मोन ब्लड शुगर लेवल को स्थिर रखने, मेटाबॉलिज्म को संतुलित करने और सूजन को कम करने के लिए जिम्मेदार है. कोर्टिसोल स्तर में वृद्धि से शरीर में पानी से होने वाला वजन बढ़ सकता है.

दवाएं :

व्यक्ति अक्सर कुछ ऐसी दवाओं का सेवन कर रहा होता है जिसकी वजह से शरीर में मौजूद पानी से वजन बढ़ने लगता है. कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स, कॉर्टिकॉस्टिरॉइड्स और नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स जैसी दवाएं वजन बढ़ने का कारण हो सकती हैं.