चक्रवाती तूफान ‘तितली’ ने ओडिशा के गोपालपुर में दी दस्तक, रेड अलर्ट

0
66

भुवनेश्वर: गुरुवार तड़के ओडिशा के तटीय इलाके गोपालपुर में तूफान का भयानक रूप देखने को मिला. खबरों के मुताबिक यहां गोपालपुर में तूफान के कारण कई पेड़ उखड़ गए हैं. तटीय इलाकों में तेज हवाएं चल रही हैं. इस तूफान के कारण इस इलाके में भूस्खलन भी हुआ है. चक्रवात की भयावहता को देखते हुए ओडिशा सरकार ने 18 जिलों में रेड अलर्ट जारी किया है.

ओडिशा के गोपालपुर में 5 मछुवारों को ले जा रही नाव तूफान के कारण पलट गई. हालांकि पांचों मछुवारों को बचा लिया गया है.

क्या कहा बिस्वास ने
भुवनेश्वर स्थित मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक एच आर बिस्वास ने कहा, “तूफान के जमीन पर दस्तक देने की प्रक्रिया शुरू हो गई है और यह ओडिशा तट को एक या दो घंटों में पूरी तरह से पार कर जाएगा. यह गोपालपुर के पास से जाएगा.” आईएमडी ने कहा, “तूफान की आंख सरीखे दिखने वाले हिस्से का आगे का क्षेत्र भूखंड (लैंडमास) में प्रवेश कर रहा है.”

ओडिशा के गंजम जिले के गोपालपुर में दस्तक दी तूफान तितली ने
बेहद गंभीर चक्रवात तितली ने गुरुवार तड़के ओडिशा के गंजम जिले के गोपालपुर में दस्तक दी. इस दौरान हवा की रफ्तार 126 किलोमीटर प्रति घंटा थी.

हवा और बारिश साथ-साथ
चक्रवात के दस्तक देने के बाद तितली के प्रभावस्वरूप ओडिशा के गंजम, गजपति, पुरी, खुर्दा और जगतसिंहपुर जैसे पांच जिलों में तेज हवा के साथ अच्छी वर्षा हो रही है.

विश्वास ने कहा कि बेहद गंभीर चक्रवाती तूफान (वीएससीएस), ‘तितली’ की निगरानी विशाखापत्तनम, गोपालपुर और पारादीप स्थित तटीय डॉप्लर मौसम रडार द्वारा की जा रही है.

19 किमी प्रति घंटे की गति के साथ उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ा तूफान
ताजा अवलोकनों से संकेत मिलता है कि पश्चिम-केंद्रीय बंगाल की खाड़ी के ऊपर से ‘तितली’ तूफान पिछले छह घंटों के दौरान लगभग 19 किमी प्रति घंटे की गति के साथ उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ा.

तूफान के कमजोर पड़ने की संभावना
जमीन पर दस्तक देने के बाद तूफान के धीरे-धीरे उत्तर-पूर्व में फिर से वक्र करके ओडिशा को पार करके गंगा से लगे पश्चिम बंगाल के हिस्से की तरफ बढ़ने और फिर धीरे-धीरे कमजोर पड़ने की संभावना है.

सड़क संपर्क टूट गया है
अधिकारियों ने कहा कि तूफान से पेड़ और बिजली के खंभों के उखड़ने और कच्चे मकानों के क्षतिग्रस्त होने की खबर है. गोपालपुर और ब्रह्मपुर सहित कुछ स्थानों पर सड़क संपर्क टूट गया है.

तीन लाख से अधिक लोगों को वहां से हटाकर सुरक्षित स्थानों पर भेज दिया है.
इस बीच, ओडिशा सरकार ने स्थिति से निपटने के लिए अपने तंत्र को तैयार रखा है. राज्य सरकार ने पहले ही पांच तटीय जिलों में चक्रवात के आगमन से पहले निचले क्षेत्रों और कच्चा मकानों में रहने वाले तीन लाख से अधिक लोगों को वहां से हटाकर सुरक्षित स्थानों पर भेज दिया है.

तितली तूफान का कहर ओडिशा से होते हुए आंध्र प्रदेश के तटीय क्षेत्र में दस्तक दे दी है.

मौसम विभाग ने इस तूफान की रफ्तार 165 किलोमीटर प्रतिघंटा पहुंचने की भी आशंका जताई थी. भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने बताया था कि इस चक्रवात के कारण 145 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से तेज हवाएं चल सकती है.

पूरी तरह चौकस ओड़िशा सरकार ने इस आपदा का सामना करने के लिए अपनी पूरी मशीनरी झोंक दी है. यह तूफान बृहस्पतिवार तड़के गोपालपुर के समीप पहुंच सकता है.

सीएम रख रहे हैं नजर
मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने कहा, ‘‘इस भयंकर चक्रवात के मद्देनजर हमने पहले ही तीन लाख लोगों को वहां से खाली करा दिया है तथा और लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा सकता है’’

तैयारी की पुष्टि करने के लिए बुधवार रात विशेष राहत आयुक्त कार्यालय का दौरा करने के बाद पटनायक ने कहा, ‘‘चक्रवात कल सुबह पांच बजे पहुंच सकता है.’’

गंजाम, खुर्दा, पुरी, जगतिसिंहपुर और केंद्रपाड़ा में लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है. मुख्य सचिव ए पी पाधी ने कैबिनेट सचिव पी के सिन्हा को वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से बताया कि राज्य ने स्थिति से निबटने के लिए सभी एहतियाती कदम उठाए हैं.

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल की 15 टीमों में 13 ओडि़शा आपदा मोचन बल के साथ संकट संभावित क्षेत्रों में तैनात की गयी हैं.
.
मौसम विभाग के समुद्र में ऊंची लहरें उठने के पूर्वानुमान के मद्देनजर नवीन पटनायक ने हालात का जायजा लिया.

उन्होंने अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने को भी कहा कि चक्रवात के चलते किसी भी व्यक्ति की जान नहीं जाए और लोगों के लिए चक्रवात आश्रय स्थलों को तैयार रखने को भी कहा.

पटनायक ने राज्य में भारी से अत्यंत भारी बारिश के पूर्वानुमान के चलते बृहस्पतिवार और शुक्रवार को सभी स्कूल-कॉलेजों और आंगनवाड़ी केंद्रों को बंद रखने का आदेश दिया.

बृहस्पतिवार को होने वाले कॉलेज छात्रसंघ चुनाव भी स्थगित कर दिए गए हैं.

मुख्य सचिव ने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘हमने अभी तक सेना की मदद नहीं मांगी है. अगर जरूरत पड़ी तो हम सहायता मांगेंगे.’’

तटीय ओडिशा के कुछ इलाकों में बुधवार को बारिश हुई. मौसम विभाग ने गुरुवार तक कई इलाकों में ‘‘भारी से बहुत भारी वर्षा’’ और कुछ इलाकों में ‘‘अत्यधिक भारी बारिश’’ का अनुमान जताया है.

मौसम विभाग ने बताया था कि गंजाम, गजपति, पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, खुर्दा, नयागढ़, कटक, जाजपुर, भद्रक और बालासोर जैसे जिलों में गुरुवार तक भारी से बहुत भारी बारिश होने की संभावना है.यहा जम कर बारिश हो रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here