4 साल में सबसे महंगा हुआ कच्चा तेल, और बढ़ सकते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम

0
51

नई दिल्‍लीः आने वाले दिनों में आम जनता की परेशानी और बढ़ सकती है। अंतर्राष्‍ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में उबाल जारी है। गुरुवार को ब्रेंट क्रूड 80 डॉलर प्रति बैरल के पार पहुंच गया। नवंबर 2014 के बाद यह पहली बार है जब कच्चा तेल 80 डॉलर प्रति बैरल के पार चला गया। इससे तेल कंपनियों की लागत बढ़ेगी और वह इस लागत को ग्राहकों से वसूलने के लिए पेट्रोल और डीजल के दाम और बढ़ा सकती हैं।

कच्चे तेल का उत्पादन घटा

विशेषज्ञों की मानें तो ओपेक और रूस ने उत्पादन घटा दिया। वहीं दूसरी ओर ईरान की ओर से भी सप्लाई घटने का अंदेशा है। साल 2018 में अब तक कच्चे तेल में 20 फीसदी की तेजी आ चुकी है। जून 2017 में कच्चे तेल के भाव 44.82 डॉलर प्रति बैरल पर थे, वहीं गुरुवार को कच्चा तेल 80.18 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गया। जानकारों का मानना है कि ओपेक देश लगातार कच्चे तेल के उत्पादन में कटौती कर रहे हैं। रूस ने भी प्रोडक्शन घटा दिया है। वहीं, ईरान पर अमेरि‍की प्रतिबंध की घोषणा के बाद, तेल की कीमतें नई ऊंचाई पर आ रही हैं। ईरान की ओर से भी सप्लाई घटने का डर बन गया है।

सरकार की बढ़ेगी मुसीबत

कच्चे तेल की कीमतों में तेजी से देश के ऑयल इंपोर्ट बिल पर असर दिखने लगा है। भारत अपनी जरुरतों का 82 फीसदी कच्चा तेल इंपोर्ट करता है। दूसरी ओर कच्चे तेल की कीमतें अंतर्राष्‍ट्रीय बाजार में लगातार बढ़ रही हैं। ऐसे में इस मोर्चे पर सरकार को मुसीबत का सामना करना पड़ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here