गुजरात में 58 साल बाद कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक, हार्दिक थामेंगे कांग्रेस का हाथ

0
45

अहमदाबाद: लोकसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है.सभी नेता अपनी-अपनी पार्टी की रणनीति बनाने में जुट गए है.जिसके चलते गुजरात में 58 साल बाद कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक हो रही है. यहां से पार्टी अपनी रणनीति को अंतिम रूप देकर चुनाव प्रचार के अभियान की शुरुआत करेगी. प्रियंका गांधी पहली बार कार्यसमिति की बैठक को संबोधित करेंगी. पाटीदार आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाने वाले हार्दिक पटेल भी आज ही कांग्रेस का हाथ थामेंगे.

CWC की बैठक में शामिल होने के लिए कांग्रेस के नेता सब गुजरात पहुंच रहे हैं.
गुजरात में होने वाले CWC की बैठक में शामिल होने के लिए पहुंचते नेतागण.

राहुल गांधी, सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह और प्रियंका गांधी वाड्रा साबरमती आश्रम में ‘दांडी मार्च’ की सालगिरह पर प्रार्थना सभा में शामिल हुए.

कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में शामिल होने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, सोनिया गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी अहमदाबाद पहुंच चुके हैं.

कांग्रेस आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृह राज्य गुजरात में अपनी कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में लोकसभा चुनाव के लिए अपनी रणनीति को अंतिम रूप देगी और प्रचार अभियान का बिगुल फूंकेगी.बैठक के बाद गांधीनगर के अडालज में एक रैली होगी जिसमें कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा राजनीति में आने के बाद पहली बार जनसभा को संबोधित कर सकती हैं.

सीडब्ल्यूसी की बैठक का इस मायने में खासा महत्व है कि यह बैठक आम चुनाव के कार्यक्रमों की घोषणा के दो दिन बाद हो रही है.

आपको बता दें कि राज्य में सीडब्ल्यूसी की आखिरी बैठक 1961 में हुई थी. सीडब्ल्यूसी की इस बैठक का इस मायने में खासा महत्व है कि यह बैठक आम चुनाव के कार्यक्रमों की घोषणा के दो दिन बाद हो रही है.

जानकारों का कहना है कि कांग्रेस महात्मा गांधी और सरदार पटेल की भूमि से पूरे देश में मजबूत राजनीतिक संदेश देने की कोशिश में हैं. सीडब्ल्यूसी की बैठक से पहले अहमदाबाद में साबरमती आश्रम में एक प्रार्थना सभा का आयोजन किया गया है.

पाटीदार नेता हार्दिक पटेल भी इसी सभा के दौरान कांग्रेस में शामिल होंगे.

सीडब्ल्यूसी की बैठक के बाद कांग्रेस गांधीनगर में ‘जय जवान, जय किसान’ सभा का आयोजन करेगी, जिसमें कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा भी शामिल हो सकती हैं.

कांग्रेस ने 12 मार्च की तारीख इसलिए चुना क्योंकि आज ही के दिन गांधी 1930 में दांडी मार्च की शुरुआत की थी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा प्रमुख अमित शाह के गृह राज्य में आयोजित की जा रही रैली में कांग्रेस को तीन लाख लोगों के आने की संभावना है.

एक महीने के भीतर राहुल गांधी का गुजरात का यह दूसरा दौरा होगा. इससे पहले उन्होंने 14 फरवरी को वलसाड जिले में रैली को संबोधित किया था.

वर्ष 1961 में सीडब्ल्यूसी की बैठक गुजरात के भावनगर में हुई थी.