सीएम योगी ने जनता को दी नसीहत, कहा-पुलिस के प्रति नजरिया बदलने की जरूरत

0
47

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिस को जनता के प्रति मित्रवत होने की नसीहत देते हुए रविवार को कहा कि अंग्रेजों के जरिए पुलिस के प्रति विरासत में मिला नजरिया अब बदला जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि हमें पुलिस के बारे में अपना नजरिया बदलने की जरूरत है. यह नजरिया हमें अंग्रेज सरकार से विरासत में मिला है. आज हमें आम जनता के प्रति मित्रवत पुलिस की जरूरत है जिससे अपराधी घबराए लेकिन आम लोगों की नजर में पुलिस की इज्जत हो. पुलिस को दिया जाने वाला प्रशिक्षण इस मामले में बेहद अहम है. सीएम योगी ने कहा कि इस पुलिस प्रशिक्षण केंद्र को सिर्फ प्रशिक्षण देने की संस्था की भूमिका में ही सीमित नहीं हो जाना चाहिए बल्कि यह स्थानीय स्तर पर जन समस्याओं के समाधान में भी बहुत महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकता है.

उन्होंने कहा कि जब हम आज के जमाने को देखते हैं तो पता चलता है कि अपराध की प्रकृति किस कदर बदल गई है. यह बदलाव सिर्फ स्थानीय स्तर पर नहीं बल्कि राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी आया है. ऐसे में यह जानना महत्त्वपूर्ण हो गया है कि हम कैसे बदलती हुई आधुनिक तकनीक से कदम से कदम मिलाकर आगे बढ़ें. बता दें कि मुख्यमंत्री ने बुंदेलखंड के जालौन जिले में स्थित कालपी तहसील में पुलिस ट्रेनिंग सेंटर के उद्घाटन समारोह में बोल रहे थे.

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को छात्रों को सलाह दी कि उन्हें डिग्री मिलने के बाद नौकरी के पीछे भागने की जगह समाज के विकास में सक्रिय भूमिका निभानी चाहिए. सीएम ने बच्चों को यह सलाह मदन मोहन मालवीय यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नालॉजी के चौथे दीक्षांत समारोह के दौरान दी. आदित्यनाथ ने कहा था कि दीक्षांत समारोह गुरुकुल की परंपरा को जीवित रख रहे हैं. इससे छात्रों को सच बोलने की प्रेरणा मिलती है और वह सही रास्ते पर चलते हैं.’ सीएम ने कहा था कि इंजीनियरिंग के छात्र कई क्षेत्रों में अहम रोल निभा सकते हैं. छात्रों को ‘हर घर नल’ स्कीम की सफलता के लिए आगे आना चाहिए. इस स्कीम का लक्ष्य 2024 तक हर घर में पोर्टेबल पानी की सप्लाई करना है.’

सीएम योगी ने कहा था कि टेक्निकल इंस्टीट्यूट्स को प्रदूषण को कंट्रोल करने के लिए आगे आना चाहिए और गरीबों के लिए घर बनाने के लिए भी अपने अनुभव का योगदान करना चाहिए.’ टेक्नालॉजी के महत्व पर सीएम ने कहा, ‘इसकी वजह से अनाज की सप्लाई में बहुत मदद मिली. आधार को राशन कार्ड से लिंक किया गया और राशन की दुकानों पर सेल मशीन के इलेक्ट्रानिक प्वाइंट इंस्टाल किए गए.’ सीएम ने बताया था कि मैंने 25 साल तक इन्सेफेलाइटिस के खिलाफ लड़ाई लड़ी. 1977 से 2017 तक कई लोगों ने इसमें जान गंवाई. लेकिन राज्य में बीजेपी की सरकार बनने के बाद हमने कई जागरूक कार्यक्रम चलाए जिससे इन्सेफेलाइटिस के खिलाफ लड़ाई में काफी मदद मिली.

सीएम ने कहा था कि करीब 50 करोड़ लोग आयुष्मान भारत योजना से लिंक किए गए और 2.5 करोड़ से ज्यादा लोगों को घर दिए गए.’ उन्होंने इन्फोसिस के संस्थापक एनआर नारायण मूर्ति को भी कार्यक्रम में डीएससी मानद उपाधि से सम्मानित किए जाने के लिए बधाई दी. सीएम ने उन छात्रों को भी बधाई दी जिन्हें ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री मिली.