तीन माह के लिए जुर्माना में ढील देने के लिए मुख्यमन्त्री ने दिया निर्देश

0
36

भुवनेश्वर .  संशोधित मोटर यान कानून के तहत केन्द्र सरकार की ओर से नियम को सख्ती से लागू करने व कानून का पालर. न नकरने वालों पर कड़ी से कड़ी जुर्माना लगाने का जो व्यवस्था की गई है उसे ओडिशा में अगले तीन माहिनों के लिए सख्ती से लागू नहीं किया जाएगा। आज मुख्यमन्त्री नवीन पटनायक ने पुलिस, ट्रैफिक व परिवहन विभाग के अधिकारियों को यह निर्देश दिया है। मुख्यमन्त्री ने पुलिस, परिवहन व ट्रैफिक विभाग के अधिकारियों को आम-लोगों के साथ इस तरह सख्ती से पैश न आने वरन लोगों को समझाने के लिए कहा है। उसके साथ साथ मुख्यमन्त्री ने वाहन मालिकों से भी अपील की है कि वह अगले तीन माह के अन्दर अपने अपने वाहनों का कागजात को सही करा लें। इसके लिए परिवहन विभाग की ओर से अधिक काउंटर खोलने के लिए मुख्यमन्त्री की ओर से विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिया गया है। मुख्यमन्त्री की इस फैसले से आम वाहन चालकों व मिाकों को काफी राहत मिली है। आज इस बारे में विचार करने के लिए लोकसेवा भवन में एक उच्चस्तरीय बैठक हुई। बैठक के बाद मुख्यमन्त्री की ओर से यह निर्देश दिया गया है।

राज्य में पिछले 1 तारीख से इस कानून को लागू किये जाने के बाद वाहन चालकों में आतंक मच गया था। एक गरीब आटो रिक्सा चालक पर 47500 रूपया की फाइन लगा दिया था। उसी तरह एक ट्रक पर 87 हजार के लगभग जुर्माना लगाया था। जुर्माना की वजह से राज्य में लोग दुपहिया निकालने के लिए भी डरने लगे थे। कई लोग पकड़े जाने के बाद दुपहिया तिपहिया मौके पर छोड़कर भाग जाते थे। जिसकी वजह से पैट्रोल की बिक्री 25 प्रतिशत व डीजल की बिक्ती 35 प्रतिशत का आसपास कम हो चुकी है। शाराब की बिक्री भी 25 प्रतिशत कम हो चुकी है।
पुलिस जुलम से आतकिंत आम जनता की ओर से कई बार पुलिस के खिलाफ संघर्ष छेड़ देने की स्थिति देखने में आई। राजमहल के चैक, बरगड रामेश्वरपाटणा चैक, रसुलगड चैक आदी स्थान पर आम लोगों ने पुलिस गाडी को कागजात देखने के लिए मांग करने के साथ पुलिस के साथ हाथापाई हुई थी। भीड़ को भगाने के लिए पुलिस की ओर से राजमहल चैक पर लाठियां भी भांजी गई थी।