बुलंदशहर: तीन तलाक-हलाला का विरोध करने वाली पीड़िता पर एसिड अटैक

0
95

उत्तर प्रदेश: बुलंदशहर में हलाला के खिलाफ आवाज़ बुलंद करने वाली तीन तलाक पीड़िता पर गुरुवार को अज्ञात बाइक सवारों ने तेजाब से हमला किया. ऐसिड अटैक से महिला बुरी तरह झुलस गई और उसे गंभीर हालत में बाबु बनारसी दास जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है. घटना बुलंदशहर नगर कोतवाली क्षेत्र के डिप्टीगंज चौकी के पास की है. फ़िलहाल पुलिस के आला अधिकारी मौके पर हैं और तफ्तीश जारी है.

पीड़िता दिल्ली की रहने वाली है और उसकी ससुराल बुलंदशहर के अगौता थाना क्षेत्र में है. पीड़िता का अपने ससुराल और पति से तीन तलाक का विवाद चल रहा है. पीड़िता अपने पति पर तीन तलाक के बाद देवर से हलाला करने का दबाव बनाने का आरोप लगा चुकी है.

आरोप है कि ट्रिपल तलाक पीड़िता पर उसके ही देवर ने अपने एक साथी के साथ मिलकर सिर्फ इसीलिए एसिड अटैक कर डाला क्योंकि ट्रिपल तलाक पीड़िता अपने पति द्वारा देवर से हलाला करने के दबाव के आगे नहीं झुकी. उसने मामले की शिकायत पुलिस से कर दी थी. शिकायत पर पुलिस द्वारा कोई कार्यवाही नहीं किए जाने से आरोपियों के हौसले बुलंद हो गए थे. अब बुलंदशहर के एसएसपी आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर शीघ्र कार्रवाई कराने का दावा कर रहे हैं.

दरअसल 8 साल पहले दिल्ली की रहने वाली रानी का निकाह बुलंदशहर के गांव चंडीगढ़ में हुआ था. आरोप है कि मामूली बात पर रानी को उसके पति ने तीन बार तलाक कह दिया. इस पर उसने समीना बेगम के साथ सुप्रीम कोर्ट में अपने पति के खिलाफ याचिका दाखिल की थी. पति के खिलाफ याचिका दाखिल किए जाने पर पति नाराज हो गया. उसने अपने छोटे भाई से हलाला करने की शर्त पर उसे वापस घर में रखने की शर्त रख दी.

जानकारी के अनुसार एक सप्ताह पहले ही रानी ने बुलंदशहर के पुलिस से हलाला के लिए दबाव बनाए जाने की शिकायत की थी लेकिन पुलिस ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया और कार्यवाही नहीं की. उधर एसिड अटैक की जानकारी पाकर बुलंदशहर पहुंचीं समीना बेगम ने बताया कि आज रानी से मिलने वह बुलंदशहर आ रही थीं. रानी को उसके गांव से बुलंदशहर बुलाया था लेकिन रानी जब डिप्टी गंज चौकी के पास खड़ी थी, तभी बाइक सवार उसके देवर ने अपने साथी के साथ मिलकर उस पर एसिड अटैक कर दिया. समीना बेगम भी बुलंदशहर पुलिस पर आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही न किए जाने का आरोप लगा रही हैं.

ट्रिपल तलाक पीड़िता पर एसिड अटैक होने के बाद आनन-फानन में जिलाधिकारी व एसएसपी पीड़िता से मिलने पहुंचे और उसे कार्यवाही का भरोसा दिलाया. बुलंदशहर के एसएसपी कृष्ण बहादुर सिंह अब दावा कर रहे हैं कि मामले की रिपोर्ट दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा. लेकिन बड़ा सवाल यह है कि यदि पीड़िता की शिकायत पर 10 दिन पहले ही पुलिस कार्यवाही कर लेती तो शायद आज इस पर एसिड अटैक नहीं होता.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here