लंबे समय बाद शेयर बाजार में उछाल, ये रही 5 प्रमुख वजह

0
162

नई दिल्ली: लंबे समय बाद शेयर बाजार में उछाल आया है. 9 अगस्त को Sensex में 254 अंकों का उछाल आया और यह 37582 पर बंद हुआ. वहीं, निफ्टी 77.20 अंकों की तेजी के साथ 11,109.65 पर बंद हुआ. उससे पहले गुरुवार (8 अगस्त) को शेयर मार्केट में जबरदस्त सुधार देखने को मिला. सेंसेक्स 636.86 अंकों की तेजी के साथ 37.327.36 पर और निफ्टी 176.95 अंकों की तेजी के साथ 11,032.45 पर बंद हुआ. उससे पहले बुधवार (7 अगस्त) को RBI के फैसले के बाद शेयर बाजार गिरकर बंद हुआ था.

ऐसे में यह गौर करने वाली बात है कि, आखिरकार क्या वजह रही कि RBI के रेट कट से बाजार में सुधार नहीं आया, लेकिन उसके ठीक अगले दिन सेंसेक्स में जबरदस्त तेजी दर्ज की गई. यानी 8 और 9 अगस्त के दौरान सेंसेक्स में करीब 900 अंकों का और निफ्टी में करीब 255 अंकों का उछाल आया है. इस तेजी के पीछे ये प्रमुख वजह मानी जा रही है.

1. पिछलें दिनों सूत्रों के हवाले से कहा कि वित्त मंत्रालय ने FPI पर बजट में ऐलान किए गए सरचार्ज के फैसले को वापस लेने पर विचार कर रहा है. इस बजट में 2-5 करोड़ टैक्सेबल इनकम पर सरचार्ज 15 फीसदी से बढ़ाकर 25 फीसदी कर दिया गया और 5 करोड़ से ज्यादा टैक्सेबल इनकम पर सरचार्ज 15 फीसदी से बढ़ाकर 37 फीसदी कर दिया गया था.

2. मीडिया में ऐसी खबर है कि सरकार NBFC और ऑटो सेक्टर के लिए प्रोत्साहन पैकेज (stimulus package) का ऐलान कर सकती है. ऑटो सेक्टर पर संकट की वजह से लाखों लोगों के रोजगार पर खतरा है. NBFC संकट की वजह से बैंकिंग सेक्टर पर निवेशकों का भरोसा कम हुआ है. साथ ही निवेश को लेकर भी समस्याएं आ रही हैं.

3. आर्थिक हालत के मद्देनजर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक के बाद एक इंडस्ट्री के लोगों से मुलाकात कर रही हैं. वह हर सेक्टर के लोगों के साथ बैठक कर रही हैं. अंत में जाकर विकास को रफ्तार देने के लिए आर्थिक रोडमैप तैयार किया जाएगा.

4. इस बजट में वित्तमंत्री ने बैंकों की लिक्विडिटी समस्या को दूर करने के लिए 70000 करोड़ रुपये री-कैपिटलाइजेशन के लिए ऐलान किया था. सूत्रों के हवाले से खबर है कि सरकार बहुत जल्द बजट की इस घोषणा को लागू करने जा रही है. दूसरी तरफ जैसा खुद RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने संकेत दिए थे, उसके मुताबिक 4 अक्टूबर को MPC (मॉनिटरी पॉलिसी कमेटी) की बैठक में संभव है कि 15 प्वाइंट्स या उससे अधिक रेट कट का ऐलान किया जाए. आर्थिक जानकारों के मुताबिक, RBI इस वित्त वर्ष में 40 प्वाइंट्स की कटौती कर रेपो रेट को 5 फीसदी के स्तर तक लाएगा. उसके बाद इसे स्थिर रखा जाएगा.

5. मार्केट एक्सपर्ट के मुताबिक, हाल में लिए गए कुछ फैसले और उसका तात्कालिक बाजार पर असर को देखते हुए लगता है कि सेंसेक्स और निफ्टी में अगले कुछ सत्रों में तेजी बनी रहेगी. क्योंकि, FPI सरचार्ज हटने से धीरे-धीरे निवेशकों का भरोसा लौटेगा और फिर से निवेश आने शुरू होंगे.