बाबा भोले का आशीर्वाद भारत पर बना रहे: मोदी

0
63

देहरादून : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को केदारनाथ मंदिर में पूजा अर्चना करने के बाद कहा कि भगवान केदारनाथ का आशीर्वाद भारत और संपूर्ण मानव जाति पर बना रहे ।

मंदिर में पूजा अर्चना करने के बाद प्रधानमंत्री ने वहां मौजूद मीडिया से बातचीत करते हुए कहा, ‘‘मैं कुछ नहीं मांगता । मैं मांगने की प्रवृत्ति से सहमत भी नहीं हूं । क्योंकि उसने आपको मांगने योग्य नहीं बनाया है बल्कि देने योग्य बनाया है । ईश्वर ने उसे देने योग्य क्षमता दी है उसे वह समाज को देना चाहिए ।’’ उन्होंने कहा, ‘भगवान बाबा केदारनाथ का भारत ही नहीं पूरी मानव जाति के लिये, उनके सुख समृद्धि और कल्याण के लिये आशीर्वाद बना रहे ।’ प्रधानमंत्री ने कहा कि यह उनका सौभाग्य है कि केदारनाथ की आध्यात्मिक चेतना की भूमि पर उन्हें कई वर्षों से आने का अवसर मिलता रहा है ।

उन्होंने केदारनाथ आने की अनुमति देने के लिये चुनाव आयोग का भी आभार जताया और कहा कि इससे उन्हें दो दिन का विराम मिला ।

केदारनाथ के निकट एक गुफा में बिताये समय का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इस दौरान वह बाहर के वातावरण से पूरी तरह कटे रहे जहां कोई कम्युनिकेशन नहीं था । उन्होंने कहा कि वहां एक छोटी सी खिड़की से 24 घंटे केदारनाथ के दर्शन होते रहते हैं ।

केदारनाथ में चल रहे पुनर्निर्माण कार्यों के बारे में प्रधानमंत्री ने कहा कि विकास एक मिशन है जिसमें प्रकृति, पर्यावरण और पर्यटन का ध्यान रखा जाना चाहिए ।

उन्होंने कहा कि केदारनाथ के काम के लिये एक समर्पित टीम है जो बहुत मुस्तैदी से काम कर रही है । उन्होंने कहा कि वह स्वयं भी समय-समय पर वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से वहां चल रहे कार्यों की निगरानी करते रहते हैं ।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सामान्यत: कपाट खुलने के बाद बहुत लोग दर्शन के लिये पहुंचते हैं लेकिन जो सैकड़ों लोग उन्हें सुविधा प्रदान करते हैं, उनका भी इसमें एक बड़ा योगदान है ।

मोदी ने कहा,‘‘अब केदारनाथ में काम ठीक चल रहा है और मैं अपेक्षा करता हूं कि लोग सिंगापुर और दुबई जाने के अलावा केदारनाथ तथा भारत के अन्य जगहों पर भी जायें क्योंकि अपने देश में भी देखने लायक काफी कुछ है ।

उन्होंने मीडिया का भी आभार व्यक्त किया कि चुनाव की व्यस्तता के बावजूद वह केदारनाथ पहुंचे और इससे अच्छा संदेश जायेगा कि केदारनाथ में सुख सुविधायें विकसित हो चुकी हैं ।