कैश की किल्लत के बीच बोले जेटली जल्द ही समस्या का होगा हल

0
256

नयी दिल्ली : सरकार ने देश के कुछ हिस्सों में नकदी को लेकर आ रही दिक्कतों के संबंध में कहा है कि प्रचलन में पर्याप्त मुद्रा है और अस्थायी दिक्कतों को जल्दी ही दूर कर दिया जायेगा। देश के कई भागों में बैंकों में नकदी की तंगी की खबरों के बीच वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आज कहा कि करंसी स्थिति की समीक्षा की गई है। प्रचलन और बैंकों के पास पर्याप्त नकदी हैं। कुछ क्षेत्रों में अचानक आयी दिक्कत को जल्दी ही दूर कर दिया जायेगा।

नकदी की हो रही है किल्लत

इससे पहले केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री एस पी शुक्ला ने कहा कि हमारे पास इस समय एक लाख 25 लाख करोड़ की नकदी है। कुछ राज्यों में नकदी की कमी हैं तो कुछ में यह अधिक है। सरकार ने राज्यवार समितियों का गठन किया है और रिजर्व बैंक ने भी एक राज्य से दूसरे राज्य को नकदी हस्तांतिरत करने के लिए समिति गठित की है। यह कार्य तीन दिन में पूरा हो जायेगा।

देश के कई हिस्सों में बैंकों के पास नकदी की दिक्कत है। एटीएम में पैसा नहीं होने से लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वैवाहिक सीजन होने की वजह से भी लोगों के समक्ष काफी कठिनाई आ रही है।

एटीएम से कैश नदारद

कुछ राज्यों और कई शहरों में एटीएम से कैश नहीं निकल रहा है। दिल्ली में भी कुछ एटीएम में ऐसी ही स्थिति बनी हुई है। कई स्थानों पर तो ऐसा हो रहा है कि मोबाइल पर निकासी का मैसेज तक आ रहा है और पैसे निकल नहीं रहे हैं।इतना ही नहीं ईमेल के जरिए भी संदेश जा रहा है लेकिन पैसे नहीं निकले हैं। कुछ जगह एटीएम में निकासी पर कैश निकासी की सीमा तय कर दी गई है।

http://

देवास बैंक नोट प्रेस में तीसरी पारी में काम शुरू

देश भर में एटीएम मशीनों में नकदी की समस्या को दूर करने के लिए मध्यप्रदेश के देवास जिले स्थित बैंक नोट प्रेस में आज से तीसरी पारी में भी काम आरंभ कर दिया गया है। बैंक नोट प्रेस के उप महाप्रबंधक आर सी मोटवानी ने बताया कि देवास में 500 तथा 200 रूपये मूल्य के नोट छापे जा रहे है। आज से ही नोट उत्पादन बढाने के लिये तीसरी पारी भी चालू कर दी गई है।

वहीं दो हजार रुपए के नोट के बारे में उन्होंने कहा कि ये देवास में नहीं छपते, लेकिन उसकी छपाई बीते दिनों रोक दी गई है। उन्होंने कहा कि यह प्रशासन की नीति है और उसके बारे में प्रबंधन कुछ नहीं कह सकता। देश भर में इन दिनों एटीएम मशीनों में नोटों की कमी से हाहाकार मचा हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here