30 रुपये के कार्ड से होगा कैंसर का इलाज, जानें बनवाने का तरीका

0
207

नई दिल्ली: मोदी सरकार अपनी सबसे बड़ी हेल्थ स्कीम आयुष्मान भारत योजना या प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना में आम जनता को बड़ा तोहफा दे सकती है. आयुष्मान भारत योजना आपको जल्द कैंसर का इलाज और घुटना बदलवाने जैसी सर्जरी का विकल्प मिल सकता है. वहीं आयुष्मान भारत के तहत उपलब्ध कराई जा रही मोतियाबिंद ऑपरेशन की सुविधा बंद हो सकती है. फिलहाल इस योजना के तहत 1300 से ज्यादा बीमारियों का मुफ्त इलाज हो रहा है.

रिपोर्ट के मुताबिक, राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण ने आयुष्मान भारत योजना के तहत दिए जाने वाले 1300 मेडिकल पैकेज की समीक्षा के लिए नीति आयोग के सदस्य प्रोफेसर विनोद के पॉल के नेतृत्व में एक कमेटी का गठन किया था. इस कमेटी में स्वास्थ्य सचिव और आयुष्मान भारत के सीईओ भी शामिल हैं. कमेटी ने अब अपनी रिपोर्ट को अंतिम रूप दे दिया है.

पैकेज में हो सकता है बदलाव
कमेटी की सिफारिशों के अनुसार, आयुष्मान भारत योजना के तहत कैंसर केयर और इम्प्लांट सर्जरी जैसी सुविधाएं भी लोगों को दी जा सकती हैं. कमेटी ने इलाज के बदले अस्पतालों को किए जाने वाले भुगतान में भी बदलाव की सिफारिश की है. रिपोर्ट के अनुसार, 200 पैकेज के भुगतान बढ़ोतरी और 63 पैकेज के भुगतान में कमी की जा सकती है.

कैसे देखेंगे अपना नाम
अगर आप भी आयुष्मान भारत योजना लाभ लेना चाहते हैं तो सबसे पहले यह पता करना होगा कि आप इसके पात्र (Eligible) हैं या नहीं. इस योजना में अपना और अपने परिवार का नाम देखने के लिए आपको इस योजना की वेबसाइट https://www.pmjay.gov.in की मदद लेनी होगी. इसके बाद अपना मोबाइल नंबर डालें. इसके बाद कैप्चा ऐड करें. फिर ओटीपी जेनेरेट करें. उसके बाद ओटीपी नंबर ऐड करें. उसके बाद राज्य सेलेक्ट करें. उसके अपने नाम या जाति श्रेणी से सर्च करें. उसके बाद अपनी डिटेल इंटर करें और सर्च करें. दूसरा तरीका यह है कि आप आयुष्मान भारत योजना के हेल्पलाइन नंबर 14555 या 1800 111 565 पर फोन कर सकते हैं.

गोल्डन कार्ड कैसे और कहां बनवाएं
गोल्डन कार्ड दो जगहों पर बनेंगे. अस्पताल में और कॉमन सर्विस सेंटर (सीएसएसी) पर. देश के ग्रामीण इलाकों में सीएससी बनाए गए हैं. जहां कार्ड बनने का काम शुरू हो गया है. कार्ड बनाने के लिए आपको 30 रुपये देने होंगे. सीएसई के अलावा कार्ड अस्पतालों में भी बनेंगे. अस्पताल में कार्ड मुफ्त में बनेगा.