2019ः ओडिशा से लड़ने का मन तो है, पर पार्टी तय करेगी

0
99

भुवनेश्वर। केंद्रीय पेट्रोलियम एवं नेचुरल गैस मिनिस्टर धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि भाजपा की राज्य में बढ़ती लोकप्रियता और जमीनी मजबूती से बीजू जनता दल में घबराहट है। वह कहते हैं कि 2019 का अाम चुनाव ओडिशा से लड़ने का मन तो है पर हमारे यहां पार्टी तय करती है कार्यकर्ताओं की भूमिका। ओडिशा का मुख्यमंत्री के रूप में मुझे करने के सवाल पूछे जा रहे हैं, मेरा यही जवाब होता है कि मेरी भूमिका मेरी पार्टी तय करेगी। 

उन्होंने कहा कि बीजद और कांग्रेस के बीच आपसी गठजोड़ के लिए आपसी समझ बन चुकी है। वर्ष 2019 में भाजपा का मिशन 120+ को रोकने के लिए बीजद और कांग्रेस का अघोषित गठबंधन तैयार हो रहा है। बीजद अध्यक्ष सीएम नवीन पटनायक ने भाजपा के कंधे पर सवार होकर ओडिशा में शासन किया था और बाद में मौका ताड़ते ही अलग हो गए। धर्मेंद्र प्रधान ने पटनायक को अवसरवादी नेता कहा।

प्रधान ने एक मीडिया विशेष से बातचीत में कहा कि भाजपा बनाम गैर भाजपा दल होगा पर उनकी दाल नहीं गलेगी। मोदी का जादू उनके कार्यों और गरीब और किसानों के प्रति उनका समर्पण के कारण मोदी प्रभाव अगले चुनाव में भी दिखेगा। ओडिशा में भी भाजपा को इसका लाभ मिलेगा। उपचुनावों में भाजपा की हार पर उनका कहना है कि इन चुनाव का आम चुनाव पर असर नहीं पड़ता। ओडिशा में बिजैपुर उपचुनाव में भाजपा की हार पर उनका कहना है कि बीजद ने कांग्रेस को मैनेज कर लिया और चुनाव जीत लिया।

उनका कहना है कि ओडिशा में भाजपा की सरकार बनने में कोई अड़चन नहीं है। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह का ओडिशा में मिशन 120+ पर तेजी से काम हो रहा है। पार्टी के लोग ओडिशा में चल रही केंद्रीय योजनाओं और उपलब्धियों को लेकर जनता के बीच है। प्रधानमंत्री मोदी ओडिशा के विकास पर नजर रखे हैं। उनका लगाव ओडिशा के विकास में है। ओडिशा से अगला चुनाव लड़ने पर प्रधान का कहना है कि उनकी इच्छा तो है पर यह भाजपा में नेतृत्व ऐसे निर्णय लेता है।