सांसद माझी व दामोदर की बेटी बीजेपी में, बसंत पांडा का भतीजा बीजेडी में शामिल

0
100

भुवनेश्वर। बीजेडी के पुराने नेताओं पर बीजेपी ने चुनावी दांव खेला है। हाल ही में बीजेडी से बीजेपी में आए वरिष्ठ नेताओं की सहायता से चुनावी नैया पार लगाने का तानाबना तैयार किया जा रहा है। बताते हैं कि टिकट न मिलने से निराश बीजेडी के कई एमपी, एमएलए पार्टी छोड़ने को तैयार बैठे हैं। नवरंगपुर संसदीय क्षेत्र से बीजेडी की टिकट पर 2014 का चुनाव जीते बलभद्र माझी ने बीजेपी की सदस्यता ले ली। उन्हें नवरंगपुर से लड़ाया जा सकता है। पूर्व मंत्री दामोदर राउतराय की बेटी पूर्व पार्षद प्रीतिनंदा राउतराय ने भी बीजेडी का साथ छोड़कर बीजेपी का हाथ पकड़ लिया है। कांग्रेस से इस्तीफा दे चुके विधायक प्रकाश बेहरा के भी बीजेपी ज्वाइन करने की खबर सूत्रों ने दी।

पूर्व सांसद बैजयंत पांडा ने इसी माह दिल्ली में बीजेपी ज्वाइन किया था। उन्हें दूसरे ही दिन अध्यक्ष अमित शाह ने उपाध्यक्ष बना दिया। बीजू जनता दल के संस्थापक सदस्यों में एक बैजयंत पांडा का बीजेडी में खासा नेटवर्क है। बीजेडी के नेताओं की बीजेपी में ज्वाइनिंग के लिए पांडा के प्रयास बताए जाते हैं।

पांडा ने बीजू पटनायक के खास सिपहसालार रहे पूर्व मंत्री दामोदर राउत को गुरुवार को दिल्ली में सदस्यता दिलायी। पूर्व मंत्री दामोदर राउत दाम बाबू के नाम इस राज्य में पहचाने जाते हैं। दाम बाबू का जगतसिंहपुर संसदीय क्षेत्र और उसकी सात विधानसभा सीटों पर खासा असर बताया जाता है। दामोदर राउत का बालीगुडा विधानसभा सीट से लड़ना लगभग पक्का माना जा रहा है।

बीजेडी की टिकट पर नवरंगपुर संसदीय क्षेत्र से निर्वाचित सांसद बलभद्र माझी ने शनिवार को दिल्ली में बीजेपी के दिल्ली कार्यालय में बीजेपी की सदस्यता ग्रहण कर ली है। इस मौके पर ओडिशा प्रभारी महासिचव अरुण सिंह, केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बैजयंत पांडा भी उपस्थित रहे। रेलवे में चीफ इंजीनियर रहे माझी ने 14 मार्च को बीजेडी से त्यागपत्र दे दिया था। सूत्र बताते हैं कि उन्हें नवरंगपुर से ही लोकसभा चुनाव लड़ाया जा सकता है। माझी ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का विकास का एजेंडा उन्हें प्रेरित करता है।

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष बसंत पांडा का भतीजा हरिश्चंद्र पांडा ने बीजेडी की सदस्यता ग्रहण कर ली है। पांडा शनिवार को नवीन निवास पर अपने समर्थकों के साथ गए थे। हरिश्चंद्र का कहना है कि नवीन पटनायक की सरकार के कार्यकाल में ओडिशा सर्वांगीण विकास हुआ है। उन्होंने कहा कि बसंत पांडा अपनी पार्टी के लिए काम करते हैं, क्षेत्र की माटी से उन्हें कोई लेना देना नहीं है।