समाज की सौवीं सालगिरह पर उपराष्ट्रपति 6 को कटक आएंगे

0
83

कटक (विप्र)। भाषाई अखबारों के इतिहास में स्वर्णाक्षरों में अपना नाम दर्ज कर चुका ओडिया का दैनिक समाचार पत्र ‘समाज’ के सौ साल होने पर आयोजित समारोह में भारत के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडु 6 अक्टूबर को कटक आएंगे। समाज अखबार के संस्थापक संपादक उत्कलमणि पंडित गोपबंधु दास जी थे। समाज के सौ वर्ष पर होने वाले विभिन्न कार्यक्रम चार अक्टूबर से शुरू हो जाएंगे। उपराष्ट्रपति 6 को समारोह में शिरकत करेंगे। समारोह स्थल कटक का जवाहरलाल नेहरू इनडोर स्टेडियम रखा गया है। उपराष्ट्रपति के कार्यालय से लोक सेवक मंडल के अध्यक्ष एवं समाज प्रबंधन बोर्ड के चेयरमैन दीपक मालवीय को भेजे पत्र में उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडु के आने की पुष्टि की गयी है। ओडिया समाचार पत्र को 100 साल तक लाने में लाला लाजपत राय की संस्था लोक सेवक मंडल की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। समाज का संचालन लोक सेवक मंडल का प्रबंधन मंडल करता है। कुशल प्रबंधन एवं संपादन के चलते समाज का व्यापक प्रचार प्रसार और विस्तार हुआ है।

पद्मभूषण राधानाथ रथ के साथ कटक में गुफ्तगू करते रहे भारत रत्न अटलजी 

आजादी की लड़ाई से लेकर वर्तमान भारत के निर्माण तक समाज अखबार की भूमिका सुनकर एक बार तो पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटलबिहारी वाजपेयी वर्ष 1994 को ओडिशा प्रवास के दौरान लोक सेवक मंडल द्वारा संचालित समाज अखबार के कटक दफ्तर आने का मोह नहीं छोड़ सके थे। समाचार पत्र का स्वर्णिम इतिहास भाषा और ओडिशा प्रांत के अस्तित्व के लिए समाज का संघर्ष अटलजी को कटक के गोपबंधु भवन तक ले आया। अटलजी ने समाज यशस्वी संपादक रहे स्मृतिशेष पद्मभूषण डा.राधानाथ रथ के साथ कटक में गोपबंधु भवन में देश के सामाजिक और राजनीतिक मसलों पर गुफ्तगू की। बताते हैं कि डाक्टर राधानाथ रथ ने भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी को समाज के स्वर्णिम इतिहास और देश के महापुरुषों का पत्र के साथ जुड़ाव पर विस्तार से बताया था। यह वाकया 2 सितंबर 1994 का है।

बताते हैं कि उन्होंने कहा था कि उन्हें यह जानकर खुशी हुई कि पंडित गोपबंधु दास का अखबार लाला लाजपतराय की संस्था लोक सेवक मंडल संचालित कर रही है। यह अनवरत प्रकाशित हो रहा है। उन्हें यह भी बताया कि लोक सेवक मंडल की रिलीफ कमेटी दीन दुखियों की मदद करती है। देश के चोटी के स्वतंत्रता सेनानियों और समाज सेवियों के सहयोग से पंडित गोपबंधु दास द्वारा वर्ष 1919 में शुरू किए गए ओडिया अखबार समाज पहले कटक से ही प्रकाशित होता था। अब तो इसका दायरा काफी बढ़ चुका है।

अटल जी के समाज के दफ्तर आने के पीछे बताते हैं कि दो सितंबर को 1994 को भाजपा की किसी बैठक में वह भाग लेने भुवनेश्वर (ओडिशा) आए थे। उन्होंने समाज परिसर में आते ही संस्थापक पंडित गोपबंधु दास की प्रतिमा माल्यार्पण किया। समाज के सभागार में लगी स्वनामधन्य क्रांतिकारियों, साहित्यकारों, वैज्ञानिकों, राजनेताओं की तस्वीरों को देखा और इसे धरोहर बताया। अटलजी लोक सेवक मंडल के कामकाज से प्रभावित रहे हैं, शायद इसीलिए उनका मेलजोल रहता था। दिल्ली में भी लोकसेवक मंडल के कार्यकर्ताओं से जब तक मिलते थे।