यातनाओं की चितलागी आमवस्या, 23 बच्चों से सरिया से दागा

0
89

भुवनेश्वर12 अगस्त। ओडिशा के नवरंगपुर जिले में अंधविश्वास के चलते नौनिहालों को अमानवीय यातना देने का सिलसिला जारी है। शनिवार को चितलागी आमवस्या बच्चों के लिए यातना दिवस बनकर आया। दो अलग-अलग गांवों में शनिवार को 23 बच्चों को गरम सरिया से दागने की घटना प्रकाश में आई है। पापडाहंडी ब्लाक के भीमासाही और खादरसाही गांव के बच्चों का यह दुर्भाग्य ही कहा जाएगा कि चिकित्सा विज्ञान की इतनी तरक्की के बाद भी इलाज के नाम पर यातनाएं झेलनी पड़ रही हैं। राज्य में अधविश्वास की बलि चढ़ रहे बच्चों से जुडी दागने की सिर्फ एक जिले की घटनाएं लें तो बीते एक साल यानी 2017 में सिर्फ क्योंझर जिले में सात बच्चों की मौत हो चुकी है।

चिकित्सा के प्रति जागरूकता के अभाव में राज्य के आदिवासी आबादी बहुल जिले नवरंगपुर, क्योंझर, कोरापुट, कटक, अनगुल, सुंदरगढ़ आदि जिलों के सुदूरवर्ती गांवों लोहे की गरम छड़ से बच्चों के सिर, कंधे, पेट, पीठ में दागा जाता है। छड़ के त्वचा में स्पर्श होते ही बच्चे बिलबिला उठते हैं। माता-पिता सोचते हैं कि उनका बच्चा ठीक हो जाएगा। कभी-कभी तो जान के भी लाले पड़ जाते हैं। नवरंगपुर जिले में जिन 23 बच्चों को गरम सरिया से दागा गया है उनमें सात माह का भी बच्चा भी शामिल है। इनमें से लगभग सभी को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया। अंधविश्वासियों का कहना है कि सरिया से दागने से जिंदगी भर बच्चे बीमार नहीं होते।
जानकारी के मुताबिक इन बच्चों के माता-पिता का विश्वास है कि पारंपरिक तरीके से सरिया से दागा जाना शुभ होता है। शनिवार का दिन आदिवासियों की नजर में उपयुक्त माना गया है। इसे चितलागी आमवस्या कहा जाता है। सरिया से दागने की घटना का पता लगते ही ब्लाक का सामुदायिक स्वास्थ केंद्र से चिकित्सा टीम आंगनबाड़ी और आशाबहुओं के साथ गांवों को रवाना हुई। प्राथमिक उपचार के बाद मलमहम आदि देकर बच्चों को घरों को जाने दिया गया। इतनी गंभीर हालत किसी की नहीं थी कि उसे भरती करना पड़े। ज्यादातर बच्चों को पेट में सरिया से दागा गया था। एक रिपोर्ट के अनुसार 43 सौ इस तरह के लोग जिले में है जो सरिया से दागकर बीमारी ठीक करने का दावा करते हैं।
बीते साल नवरंगपुर जिला प्रशासन ने सरिया से दागने की अंधविश्वासी परंपरा के विरुद्ध ज्योति अभियान चलाया था। यह अभियान थोड़े दिन बाद बंद हो गया था।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here