मालगाड़ी ने चार हाथियों को मार डाला, गुस्साए हाथियों का गांव पर हमला

0
18

 

झारसुगुडा। बगादिधी फॉरेस्ट रेंज में चार हाथियों की मालगाड़ी से कुचलकर मौत हो गयी। यह घटना तेलदिही लेवल क्रासिंग पर तड़के चार बजे हुई। चार हाथियों में एक हाथी दांत वाला, दो हथिनी व एक शावक था। इस घटना से हावड़ा-मुंबई डाउन लाइन का ट्रैफिक प्रभावित रहा। पैसेंजर, एक्सप्रेस ट्रेनों को हाथियों के शव हटाए जाने के बाद सिगनल दिया गया। गुस्साए पांच हाथियों के झुंड ने निकट के गांव में हमला कर दिया, किसानों को भारी क्षति पहुंचायी। दो किसान घायल हो गए जिनका जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है।

नौ हाथियों का झुंड रेलवे लाइन से गुजर रहा था कि तेज आती हुई मालगाड़ी से ये हाथी टकरा गए। 30-35 फुट छिटक कर ये हाथी दूर गिरे दो ने तो पटरी पर दम तोड़ दिया। चार हाथियों को मरते तड़पते देख, इसी झुंड के पांच हाथियों ने झारसुगुडा के किरमिरा ब्लाक के नक्शापल्ली गांव में हमला कर दिया। गांव वाले जान बचाकर भागे। हाथियों कुछ घरों को नुकसान पहुंचाया। उनके हमले किसान निरा किशन और जेठू बुरी तरह जख्मी हो गये जिन्हें जिला अस्पताल से भरती कराया गया।

तेजी आ रही मालगाड़ी की टक्कर इतनी जोर से थी कि हाथियों के शव पटरी से 30 से 40 फुट दूरी जा गिरे। मौके पर रेलवे अधिकारियों ने पहुंच कर शवों को हटवाया तब कहीं एक घंटे बाद ट्रैक साफ हुआ और गाड़ियां आगे बढ़ी। बगादिही वन क्षेत्र के अधिकारी बटक्रष्णा सेठी ने बताया कि तीन माह पहले ही विभाग ने रेल अधिकारी को पत्र भेजकर बताया था कि यहां हाथियों की आवाजाही रहती है लिहाजा ऐहतियाती कदम उठाए जाएं।

नियम के अनुसार हाथी कॉरीडोर से जब भी ट्रेन गुजर रही हो तो ड्राइवरों को स्पीड कम से कम 30 किलोमीटर प्रतिघंटा के हिसाब से धीमी कर देनी चाहिए। समझा जाता है कि मालगाड़ी चालक ने स्पीड लिमिट की बात पर ध्यान नहीं दिया। घटना की जांच की जा रही है। बीते अप्रैल 2010 से अब तक 15 हाथियों के ट्रेन से कुचल कर मौत हो गयी। इससे पहले 2012 में गंजाम जिले के रंभा में एक साथ छह हाथियों की तेज गति से आ रही ट्रेन से कुचलने से मौत हो गयी थी।

सड़क दुर्घटना में तीन की मौत

ढेंकानाल में सड़क दुर्घटना में एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत हो गयी। ये लोगो एक गाड़ी ढेंकानाल जा रहे थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here