महानदी सुरत्रा यात्रा को नवीन ने दिखायी हरीझंडी

0
28

झारसुगुडा। महानदी बचाओ अभियान को ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक ने झारसुगुडा और बरगढ़ में सभाएं करने के बाद महानदी सुरक्षा यात्रा वाहन को हरीझंडी दिखायी। महानदी सुरक्षा यात्रा पारादीप में समााप्त होगी। यहीं पर महानदी समुद्र से विलीन हो जाती है। एक सभा में नवीन पटनायक ने ओडिशावासियों का आह्वान करते हुए कहा कि ओडिशा के जीवन की इस लड़ाई जनता उनके साथ आए।

यह अभियान का दूसरा चरण था।  इसमें झारसुगुडा के लखनापुर ब्लाक के सुखसोदा गांव से महानदी सुरक्षा यात्रा निकाली गयी। इसी स्थल पर महानदी छत्तीसगढ़ से ओडिशा में प्रवेश करती हैं। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने हरीझंडी दिखाकर महानदी सुरक्षा यात्रा रवाना किया और 15 दिन तक करीब 500 किलोमीटर की दूरी तय करके 15 जिलों 45 विस क्षेत्र से होते हुए पारादीप में समाप्त होगी। उद्देश्य जनजागरूकता है। महानदी छत्तीसगढ़ से पारादीप ओडिशा तक 857 किलोमीटर का रास्ता तय करती है। यहीं पर समुद्र में विलीन हो जाती है।

महानदी सुरक्षा यात्रा को झंडी दिखाने के लिए दोनों तट पर बरगढ व झारसुगुडा के अंबोवाना व लखनापुर में लोग एकत्र हुए। सुरक्षा यात्रा के दौरान सत्ता पार्टी बीजद नुक्कड़ सभाएं, नुक्कड़ नाटक व अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित करेगी।

झारसुगुडा में सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने ओडिशा की जनता का आह्वान किया कि महानदी को बचाने के लिए लोग उनके अभियान से जुड़ें। ओडिशा की जीवनरेखा महानदी की हालत छत्तीसगढ़ के कारण बेहाल है। उसके तट तक सूख रहे हैं। रबी की फसल का भारी नुकसान होगा। पेयजल संकट गंभीर हो सकता है। छत्तीसगढ़ और केंद्र में भाजपा सरकार होने के कारण ओडिशा की सुनवायी नहीं की जाती है। पटनायक ने कहा कि उन्हें महानदी पर ट्रिब्यूनल गठन के लिए सुप्रीमकोर्ट तक के दरवाजे खटखटाने पड़ गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here