बालासोर में बलात्कार को लेकर हंगामा, विपक्ष ने विस ठप की

0
125

भुवनेश्वर। कांग्रेस ने बालासोर जिले के नीलगिरि और सोरो में नाबालिगों से बलात्कार के मुद्दे पर विधान सभा नहीं चलने दी। शनिवार को नीलगिरि में चार साल की बच्ची से बलात्कार की घटना को लेकर विपक्ष ने राज्य में कानून व्यवस्था पर सवाल उठाए। विपक्षी दल कांग्रेस के विधायकों ने ओडिशा में बलात्कार की घटनाएं बढ़ने को मुद्दा बनाया। विपक्ष के नेता नरसिंह मिश्र की अगुवायी में विधायक सदन कूप तक चले गए और नारेबाजी करते रहे। मिश्र ने कहा कि बालासोर सहित अन्य क्षेत्रों में बलात्कार की घटना से राज्य का सिर शर्म से झुक जाता है। इन घटनाओं पर कांग्रेस और भाजपा के विधायक सदन में सत्ता दल पर आक्रामक रहे। नेता विपक्ष नरसिंह मिश्र ने लचर कानून व्यवस्था पर सरकार के इस्तीफे की मांग की। उनके साथ उनकी पार्टी के बाकी विधायक सरकार विरोधी नारेबाजी करते हुए सदन वेल में जा घुसे। उनकी मांग थी कि प्रश्न प्रहर समाप्त करके कानून व्यवस्था पर चर्चा करायी जाए।

सदन में भारी हो-हल्ला के बीच विधानसभा अध्यक्ष प्रदीप कुमार अमात ने 11.30 बजे तक के लिए सदन स्थगित कर दिया। उसके बाद फिर तीन बजे तक सदन स्थगित करना पड़ा। विपक्ष की मांग थी कि राज्य की कानून व्यवस्था और नीलगिरि बलात्कार की घटना पर मुख्यमंत्री नवीन पटनायक सदन में बयान दें। विपक्ष का कहना है कि आए दिन रेप हिंसा की घटनाएं हो रही हैं और मुख्यमंत्री खामोश बैठे हैं। नरसिंह मिश्र ने कहा कि उन्होंने विस अध्यक्ष से प्रश्न प्रहर रद्द करके बलात्कार की घटनाऔं पर चर्चा कराने की मांग की पर उन्होंने कोई ध्यान नहीं दिया। उल्टे सदन स्थगित करते रहे। विस अध्यक्ष का आचरण अलोकतांत्रिक और असंवैधानिक था। बीजू जनता दल के एमएलए समीर दास ने कहा कि सरकार बलात्कार की घटना को लेकर गंभीर है। कार्रवाई की जा रही है पर विपक्ष का सदन में रवैया उचित नहीं था।.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here