डीआरडीओ ने गढ़ा कामयाबी का ‘अभ्यास,’ परीक्षण सफल

0
89

‘अभ्यास’ के सफल परीक्षण ने दी रक्षा प्रणाली को मजबूती

अमेरिका के प्रीडेटर ड्रोन की तर्ज पर बना चुके रुस्तम-2

रक्षा में हैरतअंगेज काम करेगा पायलट रहित ‘अभ्यास’

चांदीपुर। ओडिशा के चांदीपुर टेस्ट रेंज में ‘अभ्यास’ का सफल परीक्षण किया गया। यह एरियल हाईस्पी़ एक्सपेंडेबल एरियल टारगेट (HEAT) के सफल परीक्षण पर वैज्ञानिकों ने गले लगकर एक दूसरे को बधाई दी। सूत्रों के अनुसार इस अवसर सैन्य अधिकारी भी उपस्थित थे। यह परीक्षण सोमवार को बालासोर जिला के चांदीपुर तट पर किया गया।

‘अभ्यास’ को डीआरडीओ (रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन) ने विकसित किया है। उल्लेखनीय है कि अप्रैल में डीआरडीओ ने अमेरिका के प्रीडेटर ड्रोन की तर्ज पर रुस्तम-2 को विकसित किया था। इसका 6 अप्रैल को सफल परीक्षण कर्नाटक के चित्रदुर्ग जिले के चलाकेरे में किया गया था। रुस्तम-2 मध्यम ऊचाई पर लंबे समय तक उड़ान भरने में सक्षण मानवरहित विमान है। बताया जाता है कि इस बिना पायलट के एयरक्राफ्ट का इस्तेमाल कई तरह की मिसाइल्स को टेस्ट करने में किया जाएगा। यह बताया जा रहा है कि अलग-अलग तरीके की मिसाइल्स और एयरक्राफ्ट का पता लगाने के लिए भी इसका इस्तेमाल हो सकता है।

‘अभ्यास’ एक लघु गैस टरबाइन इंजन और एमईएमएस नेवीगेशन सिस्टम पर काम करता है। बताते हैं कि डीआरडीओ के वैज्ञानिक इसे देश की रक्षा प्रणाली को मजबूती देने वाला बिलकुल नयी तकनीक का बेहतरीन एयरक्राफ्ट मानते हैं। ‘अभ्यास’ के परीक्षण को कई राडार और इलेकट्रो आप्टिक सिस्टम की मदद से चेक किया गया। इस दौरान इसकी परफार्मेंस पूरी तरह से सही बतायी गयी।