ओडिशाः बर्थ कंट्रोल के लिए निरोध आसान उपाय

0
19

कटक। परिवार नियोजन के प्रति जागरूकता में इजाफा हुआ है। लोगों में निरोध (कंडोम) का इस्तेमाल करने के प्रति रुचि बढ़ी है।लोगों को परिवार नियोजन के अन्य तरीकों के मुकाबले निरोध का इस्तेमाल  आसान लगता है। स्वास्थ विभाग के एक सर्वेक्षण के अनुसार बीते साल के मुकाबले इस साल अब तक कंडोम का इस्तेमाल करने वालों की संख्या में 2.66 प्रतिशत बढ़ोत्तरी हुई है। सर्वेक्षण में पाय कि गर्भ निरोधक गोलियां या अन्य उपाय के बजाय निरोध का
का उपयोग करके बर्थ कंट्रोल ज्यादा आसान तरीका है ।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बीते साल कंडोम यूजर्स 1,23,746 थे जो अब बढ़कर 1,27,035 हो चुके हैं। इनके और भी बढने की संभावना है। इस प्रकार 2017-18 में 2.66 प्रतिशत बढ़ोत्तरी हुई है।  सर्वे में यह भी पता चला है कि 2015-16 में 87,31,880 कंडोम सप्लाई किए गए, सन 2016-17 में 1,07,44,910 और 2017-18 यह संख्या बढ़कर 1,16,28,202 हो गयी। इनकी बिक्री ओडिशा के 30 में से 19 जिलों में ज्यादा हुई है।  राज्य के कुल 11 जिले ऐसे हैं जहां कंडोम का प्रचलन बहुत कम है।

उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार 1,05,066 महिलाओं 2016-17 में शल्य चिकित्सा के माध्यम से बर्थ कंट्रोल किया। यह संख्या 2017-18 में घटकर 86,636 रह गयी। अर्थात पिछले साल के मुकाबले 17.54 प्रतिशत कमी आई। पुरुषों में नसबंदी कराने वालों की संख्या में गिरावट आई है। 2016-17 में जहां 2,635 पुरुषों में नसबंदी करायी वहीं 2017-18 में यह संख्या घटकर 1,148 ही रह गयी है यानी 56.43 प्रतिशत गिरावट। शल्य क्रिया से नसबंदी कराने वालों में 18.49 प्रतिशत कमी आई है जबकि गर्भ निरोधक  गोलियों का प्रयोग करने वाली महिलाओं की संख्या एक साल में घटकर 1,58,287 से  घटकर 1,50,653 रह गयी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here