आदिवासियों ने लिंगराज आजाद की रिहाई को प्रदर्शन किया

0
54

भुवनेश्वर। आदिवासियों और किसानों की लड़ाई लड़ने वाले सामाजिक कार्यकर्ता लिंगराज की रिहाई के लिए आदिवासियों ने प्रदर्शन किया और राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा।

 

ओडिशा पुलिस ने बुधवार को नियमगिरि सुरक्षा समिति के कार्यकर्ता और सलाहकार लिंगराज आजाद को कालाहांडी से गिरफ्तार किया है। वह समाजवादी जनपरिषद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व नेशनल एलायंस ऑफ पीपुल्स मूवमेंट के संयोजक भी हैं।

आंदोलनकारी प्रफुल सामंतरा ने उनकी गिरफ्तारी को अवैध बताते हुए कहा कि उनकी तत्काल प्रभाव से रिहाई की जाए। उन्होंने डोंगरियां कौंध आदिवासियों के साथ उन्हें उजाड़कर प्लांट लगाने वाली कंपनी वेदांता के खिलाफ निर्णायक लड़ाई लड़ी थी। एक पुराने मामले में उन्हें गिरफ्तार करके देशद्रोह के आरोप लगाये गए हैं।

प्रदर्शनकारियों ने मांग की है कि ओडिशा पुलिस ने अपनी प्रेस विज्ञप्ति द्वारा यह साबित कर दिया कि वह सर्वोच्च न्यायालय तथा ग्राम सभाओं द्वारा खनन रोकने के फैसलों के समर्थकों को ‘माओवादी समर्थक’  तथा बाधा पहुंचाने वाला बता कर अपना निहित स्वार्थ प्रकट कर रही है। लिंगराज आजाद को ग़ैरहथियारबन्द आंदोलन के फर्जी मुकदमों के तहत गिरफ्तार किया गया है।उन्हें तत्काल रिहा किया जाए तथा नियमगिरि सुरक्षा समिति पर लगे सभी फर्जी मुकदमे वापस लिए जाएं।

 

प्रदर्शनकारियों की मांग है कि पंचायतों के प्रावधान(अनुसूचित क्षेत्रों पर विस्तार)कानून तथा वनाधिकार कानून को कमजोर किए जाने के प्रयासों पर लोकहित में रोक लगाएं।वनाधिकार सुनिश्चित करने के लिए ग्राम सभा को अधिकृत किया जाए तथा सिर्फ इसके लिए ग्राम सभा की अलग बैठक बुलाने का प्रावधान हो।वनक्षेत्र में रहने वाले गैर आदिवासी नागरिकों को निवास प्रमाणपत्र हासिल करने में नौकरशाही सहयोगी रवैया अपनाए। सामुदायिक पट्टे के लिए ग्राम सभा को पूर्ण अधिकार दिया जाए।